केदारनाथ और काशी शक्तिशाली स्‍थान क्यों हैं?...


user

Jitendra Singh@1668

Social Worker

2:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

केदारनाथ में शक्तिशाली स्थान क्यों है काशी केदार में देखिए स्थान का जो महत्व है वहां के जीव प्राणी मात्र वहां की संस्कृति से 1 लोगों की भावनाओं से भोपाल से काशी जी में अच्छे लोग जो है आज तक बिका सीधी से धर्म पुराण इतिहास वहीं से चलता है हंसी में अभी भी तीन-तीन टाइम पूजा करने वाले आज भी काशी में लो अगर एक बार वह बाथरूम में जाए तो अगर वह किसी कारण से लैट्रिन होकर आते हैं तो आज भी आते हैं वह अपने लिए पाबंद है जहां का इंसान अपने धर्म और कर्म और संस्कृति को साथ लेकर जीता है उस स्थान की सुगंध अलग ही हो हमको ऐसे मानना चाहिए कि हम अपने को देखे हम कितने अपने शास्त्रों के हिसाब से जी रहे हैं हमारा जीवन आज आधुनिक तरीके का हो गया लेकिन वहां के लोग बात अभी भी बहुत कुछ बचाए हुए इसलिए वहां आज भी हम लोग इस चीज को मानते हैं जहां जीव का भाव ज्यादा होगा देवस्थान का नाम ऊंचा होगा केदारनाथ में भी आप देखिए जितने भी आसपास के लोग हैं वह सभी बड़े ईमानदार प्रेम जी और अपनी संस्कृति में जीने वाले लोग उन लोगों से हम को समझना चाहिए और अपने धर्म स्थान दिया अपनी जन्मभूमि पहुंचा बनाना चाहिए वहां की संस्कृति को बिल्कुल लोग अपने जीवन से ज्यादा महत्व देते हम लोगों को भी ऐसा करना चाहिए जहां जैसा जीव होते हैं जहां संस्कृति जैसी होती है उसका नाम बेटी का अनुभव होता है इसलिए हर हर महादेव जय शिव शंभू

kedarnath me shaktishali sthan kyon hai kashi kedar me dekhiye sthan ka jo mahatva hai wahan ke jeev prani matra wahan ki sanskriti se 1 logo ki bhavnao se bhopal se kashi ji me acche log jo hai aaj tak bika seedhi se dharm puran itihas wahi se chalta hai hansi me abhi bhi teen teen time puja karne waale aaj bhi kashi me lo agar ek baar vaah bathroom me jaaye toh agar vaah kisi karan se latrine hokar aate hain toh aaj bhi aate hain vaah apne liye paband hai jaha ka insaan apne dharm aur karm aur sanskriti ko saath lekar jita hai us sthan ki sugandh alag hi ho hamko aise manana chahiye ki hum apne ko dekhe hum kitne apne shastron ke hisab se ji rahe hain hamara jeevan aaj aadhunik tarike ka ho gaya lekin wahan ke log baat abhi bhi bahut kuch bachaye hue isliye wahan aaj bhi hum log is cheez ko maante hain jaha jeev ka bhav zyada hoga devasthaan ka naam uncha hoga kedarnath me bhi aap dekhiye jitne bhi aaspass ke log hain vaah sabhi bade imaandaar prem ji aur apni sanskriti me jeene waale log un logo se hum ko samajhna chahiye aur apne dharm sthan diya apni janmbhoomi pohcha banana chahiye wahan ki sanskriti ko bilkul log apne jeevan se zyada mahatva dete hum logo ko bhi aisa karna chahiye jaha jaisa jeev hote hain jaha sanskriti jaisi hoti hai uska naam beti ka anubhav hota hai isliye har har mahadev jai shiv sambhu

केदारनाथ में शक्तिशाली स्थान क्यों है काशी केदार में देखिए स्थान का जो महत्व है वहां के जी

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  178
KooApp_icon
WhatsApp_icon
15 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!