योगियों ने हिमालय में रहना क्यों चुना?...


user

Jitendra Singh@1668

Social Worker

3:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

योगियों को हिमालय में रहना क्यों चुना क्योंकि अगर आदमी अपने घर में रहता है तो घर में उसके सामने अनेक प्रकार के परिवार के कार्य सामने रहते हैं वह अपने मन को एकाग्र नहीं कर पाता तो घर से दूर अपनों से दूर हिमालय में ही क्यों जाना चाहते हैं क्योंकि वहां के शुद्ध हवा और शुद्ध जल मन को एकाग्र करने में शतक सहायक होते हिमालय में प्रदूषण बिल्कुल नहीं है शोर-शराबा ध्वनि प्रदूषण वगैरह कुछ भी नहीं है वहां जब आदमी रहने लगता है और ध्यान मग्न हो जाता है तो वहां की वायु और जल दोनों इतने शक्तिशाली हैं कि उसके जीव के मन को प्रबल बना देते हैं जिससे ध्यान और योग करने में उसको सहायता में शक्ति और उसका चित्त एकाग्र हो जाता एकता ग्रुप होने से ही ध्यान लग जाता है और वह अपने अनंत शक्तियों को जान जाता अपने सातों चक्रों को वह उनसे उज्जवल अन्यथा इस प्रकार से यह कार्य वही हिमालय में रहकर करके एकांतवास में जहां कोई ना एकांत पैसे किसको जहां एक का भी अंत होता है जहां एक भी विचार एक ब्याव सत्ता एक का अंत हो जाना ही एकांत है एकांत में बहुत बड़ा तत्व है कोई विचार नहीं एक कोई इच्छा नहीं एक कोई उनकी आवश्यकता नहीं अपने को बिल्कुल इच्छाओं से रहित कर करके कभी अंत करके उसमें आदमी डर लग जाता है तो मन और चित्त एकाग्र हो जाते हैं और उनको योग साधना में महारत हासिल होता है इसीलिए लोग हिमालय पर योग साधना करने जाते हैं धन्यवाद

yogiyon ko himalaya me rehna kyon chuna kyonki agar aadmi apne ghar me rehta hai toh ghar me uske saamne anek prakar ke parivar ke karya saamne rehte hain vaah apne man ko ekagra nahi kar pata toh ghar se dur apnon se dur himalaya me hi kyon jana chahte hain kyonki wahan ke shudh hawa aur shudh jal man ko ekagra karne me shatak sahayak hote himalaya me pradushan bilkul nahi hai shor sharaba dhwani pradushan vagera kuch bhi nahi hai wahan jab aadmi rehne lagta hai aur dhyan magn ho jata hai toh wahan ki vayu aur jal dono itne shaktishali hain ki uske jeev ke man ko prabal bana dete hain jisse dhyan aur yog karne me usko sahayta me shakti aur uska chitt ekagra ho jata ekta group hone se hi dhyan lag jata hai aur vaah apne anant shaktiyon ko jaan jata apne saton chakron ko vaah unse ujjawal anyatha is prakar se yah karya wahi himalaya me rahkar karke ekantavas me jaha koi na ekant paise kisko jaha ek ka bhi ant hota hai jaha ek bhi vichar ek byav satta ek ka ant ho jana hi ekant hai ekant me bahut bada tatva hai koi vichar nahi ek koi iccha nahi ek koi unki avashyakta nahi apne ko bilkul ikchao se rahit kar karke kabhi ant karke usme aadmi dar lag jata hai toh man aur chitt ekagra ho jaate hain aur unko yog sadhna me maharat hasil hota hai isliye log himalaya par yog sadhna karne jaate hain dhanyavad

योगियों को हिमालय में रहना क्यों चुना क्योंकि अगर आदमी अपने घर में रहता है तो घर में उसके

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  279
KooApp_icon
WhatsApp_icon
23 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
chuna ; girikand ; himalaya parvat ; shakti himalaya ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!