सब लोग ऐसा कहते हैं कि आजकल के समाज के लोगों पर विश्वास नहीं किया जा सकता है, क्या इसमें सच्चाई है?...


user

Sachin Sinha

Journalist

1:41
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

टोटल सब पर अगर करते हैं तो यह गलत बात है सब पर आप विश्वास नहीं कर सकते ऐसा नहीं है अगर आपको किसी पर बाहरी लोगों पर विश्वास हो तो घर के लोगों को पर आपको विश्वास को ही होगा और समाज में भी तो प्रकार के लोग तो मिलेंगे ही सिक्के मा ने जैसे बताया किसी को मनाने के लिए दो पहलुओं की आवश्यकता होती है घर में हम लोग एक राय नहीं हो पाते हैं कई अलग-अलग रहा है बंद है घर में फिर भी एडजस्टमेंट हो जाता कुल मिलाकर कुछ इसकी सुनकर कुछ उसकी सुनके तो पूर्व पर समान में जितने लोग हैं उस पर विश्वास नहीं समा यह तो गलत बात है बहुत सारे आपको ऐसे भी दोस्त मिलेंगे जिंदगी हमेशा आपको आवश्यकता पड़ेगी और वह आपको करना है उस क्वॉलिटी के दोस्तों को और वैश्य समाज में आपको रहना है एक दूसरे का जगह आप आएंगे नहीं जाएंगे नहीं तो आपके यहां तो धूप में आएगा जाएगा कौन विश्वास बनने से बनता है जहां विश्वास सागर दूसरों पर ना जमे वहां पर आप उसे खत्म कर दीजिए लेकिन अगर दोस्तों की हमेशा साथ दोस्ती चाहिए जो आपके हर समय सुख में दुख में खड़ा होता हो उसको आप पहचानिए और उससे रिलेशनशिप आप दोस्ती वाला लिसन सीफॉप आगे बढ़ाइए

total sab par agar karte hain toh yah galat baat hai sab par aap vishwas nahi kar sakte aisa nahi hai agar aapko kisi par bahri logo par vishwas ho toh ghar ke logo ko par aapko vishwas ko hi hoga aur samaj me bhi toh prakar ke log toh milenge hi sikke ma ne jaise bataya kisi ko manane ke liye do pahaluwon ki avashyakta hoti hai ghar me hum log ek rai nahi ho paate hain kai alag alag raha hai band hai ghar me phir bhi adjustment ho jata kul milakar kuch iski sunkar kuch uski sunake toh purv par saman me jitne log hain us par vishwas nahi sama yah toh galat baat hai bahut saare aapko aise bhi dost milenge zindagi hamesha aapko avashyakta padegi aur vaah aapko karna hai us quality ke doston ko aur vaiishay samaj me aapko rehna hai ek dusre ka jagah aap aayenge nahi jaenge nahi toh aapke yahan toh dhoop me aayega jaega kaun vishwas banne se banta hai jaha vishwas sagar dusro par na jame wahan par aap use khatam kar dijiye lekin agar doston ki hamesha saath dosti chahiye jo aapke har samay sukh me dukh me khada hota ho usko aap pehchaniye aur usse Relationship aap dosti vala listen sifap aage badhaiye

टोटल सब पर अगर करते हैं तो यह गलत बात है सब पर आप विश्वास नहीं कर सकते ऐसा नहीं है अगर आपक

Romanized Version
Likes  39  Dislikes    views  751
KooApp_icon
WhatsApp_icon
13 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!