पहले पद्मावत,अब मणिकर्णिका विवाद में! फिल्मों को इतिहास से छेड़-छाड के बिना बनाया जाना चाहिए? क्यों?...


play
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:24

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले तो हमें यह समझना चाहिए कि कोई भी मूवी इंटरटेनमेंट के पर्पस से बनाई जाती है और उसका पूर्णता उद्देश्य आपको एंटरटेन करना होता है l कभी-कभी कोई मूवी इसलिए भी बनाई जाती है ताकि समाज के सामने सच्चाई लाई जा सके l लेकिन पद्मावती ऐसी मूवी या मणिकर्णिका जैसी मूवी बनाई जाती है उनका उद्देश्य ऐसा किसी की सेंटीमेंट को हर्ट करने का नहीं होता l और कभी-कभी ऐसा होता है कि कुछ विवाद जान बुजकर खड़े किए जाते हैं l जैसे अभी सेना करणी सेना नेता विवाद खड़ा किया बाद में उन्हें खुद बोल दिया कि ऐसा कुछ था ही नहीं, अच्छी मूवी है l तो मुझे लगता है कि केवल पब्लिसिटी गेन करने का तरीका है l करणी सेना को कोई जानता नहीं था आज से पहले l अब मणिकर्णिका में करने का कोई वही लोग विवाद करेंगे जो लोगों को कोई जानता नहीं था वह भी दो चार गाड़ी चलाएंगे, हम लोग को आपको परेशान करेंगे और हम आप हम उनको जाना शुरू हो जाएगा कि एक और दल ऐसा है जो अपने आप को महान तो बताता है, जो अपने आप को उनका भक्त मानता है लेकिन करता कुछ नहीं है, उधम करने का काम है l मुझे लगता है कि चीजों को थोड़ा दूर रखना चाहिए l इनको खबरों का बिल्कुल भी ध्यान ना दें, बिल्कुल इग्नोर करें l सबसे अच्छा तरीका यही है बिल्कुल पब्लिसिटी ना दें और न्यूज़ चैनल पर आ रहा है तो ना देखें lअपनी खुश रहें ताकि यह न्यूज़ भी लोग दिखाना बंद कर दें और इतिहास से चढ़ वाली बात है ही नहीं एंटरटेनमेंट की कोशिश हो रही है, एंटरटेनमेंट होना चाहिए, धन्यवाद l

sabse pehle toh hamein yah samajhna chahiye ki koi bhi movie entertainment ke purpose se banai jaati hai aur uska purnata uddeshya aapko entertain karna hota hai l kabhi kabhi koi movie isliye bhi banai jaati hai taki samaj ke saamne sacchai lai ja sake l lekin padmavati aisi movie ya manikarnika jaisi movie banai jaati hai unka uddeshya aisa kisi ki sentiment ko heart karne ka nahi hota l aur kabhi kabhi aisa hota hai ki kuch vivaad jaan bujakar khade kiye jaate hain l jaise abhi sena karni sena neta vivaad khada kiya baad mein unhe khud bol diya ki aisa kuch tha hi nahi achi movie hai l toh mujhe lagta hai ki keval publicity gain karne ka tarika hai l karni sena ko koi jaanta nahi tha aaj se pehle l ab manikarnika mein karne ka koi wahi log vivaad karenge jo logo ko koi jaanta nahi tha vaah bhi do char gaadi chalayenge hum log ko aapko pareshan karenge aur hum aap hum unko jana shuru ho jaega ki ek aur dal aisa hai jo apne aap ko mahaan toh batata hai jo apne aap ko unka bhakt manata hai lekin karta kuch nahi hai udham karne ka kaam hai l mujhe lagta hai ki chijon ko thoda dur rakhna chahiye l inko khabaro ka bilkul bhi dhyan na de bilkul ignore kare l sabse accha tarika yahi hai bilkul publicity na de aur news channel par aa raha hai toh na dekhen apni khush rahein taki yah news bhi log dikhana band kar de aur itihas se chad wali baat hai hi nahi Entertainment ki koshish ho rahi hai Entertainment hona chahiye dhanyavad l

सबसे पहले तो हमें यह समझना चाहिए कि कोई भी मूवी इंटरटेनमेंट के पर्पस से बनाई जाती है और उस

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  168
KooApp_icon
WhatsApp_icon
9 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
manikarneka ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!