200 रेलवे स्टेशनों पर नैपकिन डिस्पेंसर्स लगाए जाने हैं IAS महिला दिवस पर । क्या यह जागरूकता पैदा करने के लिए काफ़ी है?...


user

Sanjeev Singh

Career Coach for Civil Services and Other Competitive Examinations

1:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है 200 रेलवे स्टेशनों पर नैपकिन डिस्पेंसर लगाए जाने वाले हैं क्या यह जागरूकता पैदा पैदा करने के लिए काफी है कि काफी तो कुछ नहीं होता है लेकिन फिर भी एक प्रयास है उस पर आपको देखकर जो लोग जागरूक होंगे वह दूसरों को जागरूक करेंगे इस प्रकार सचिन बनेगा और ज्यादा से ज्यादा लोगों तक जा पहुंचेगी फिर भी इस चीज को थोड़ा ठीक से समझने के लिए हमको थोड़ा समझना पड़ेगा कि भारतीय रेलवे में हमेशा ढाई करोड़ लोग यात्रा करते रहते हैं ढाई करोड़ मतलब जितनी ऑस्ट्रेलिया की जनसंख्या है और ढाई करोड़ लोग यात्रा करते हैं तो उस 200 स्टेशन पर से लाखों लोग तो गुजरते ही होंगे और उन दोस्तों स्टेशन स्पर्श अगर लाखों लोग गुजरते होंगे तो लाखों में हजारों हजार की दृष्टि उस पर पड़ती होगी और उसमें जागरूक होंगे और दो जागरूक होंगे उसमें से कई लोग जागरूकता के लिए काम करेंगे इंडिविजुअल लेवल पर थी और नेशनल लेवल पर काम कर रहे हैं जो डिपार्टमेंट चिल्ड्रन फंक्शन करती वह भी काम कर रही है दूसरे जो non-governmental ऑर्गेनाइजेशन इन जिओ से वह भी काम करती है सेल्फी काम कर रहे हैं मीडिया में काम करिए अभी 1 साल में बनी थी जागरूकता के लिए आप लोगों ने देखा होगा वह भी काम कर रही है सब लोग मिलकर एक लगाते हैं जिसके परिणाम स्वरुप जागरूकता आता है कोई एक व्यक्ति एक ऑर्गनाइजेशन के लगाने से नहीं आता है लेकिन हाई एक अच्छा कदम है एक प्रशंसनीय कदम है इस दिशा में काम कर रही है रेलवे दूसरे संगठन काम कर रहे हैं सब लोग मिलाकर जागरूकता पैदा करने में अपनी भूमिका अदा कर रहा है धन्यवाद

aapka prashna hai 200 railway stationo par napkin dispensers lagaye jaane waale hain kya yah jagrukta paida paida karne ke liye kaafi hai ki kaafi toh kuch nahi hota hai lekin phir bhi ek prayas hai us par aapko dekhkar jo log jagruk honge vaah dusro ko jagruk karenge is prakar sachin banega aur zyada se zyada logo tak ja pahunchegi phir bhi is cheez ko thoda theek se samjhne ke liye hamko thoda samajhna padega ki bharatiya railway me hamesha dhai crore log yatra karte rehte hain dhai crore matlab jitni austrailia ki jansankhya hai aur dhai crore log yatra karte hain toh us 200 station par se laakhon log toh gujarate hi honge aur un doston station sparsh agar laakhon log gujarate honge toh laakhon me hazaro hazaar ki drishti us par padti hogi aur usme jagruk honge aur do jagruk honge usme se kai log jagrukta ke liye kaam karenge individual level par thi aur national level par kaam kar rahe hain jo department children function karti vaah bhi kaam kar rahi hai dusre jo non governmental organization in jio se vaah bhi kaam karti hai selfie kaam kar rahe hain media me kaam kariye abhi 1 saal me bani thi jagrukta ke liye aap logo ne dekha hoga vaah bhi kaam kar rahi hai sab log milkar ek lagate hain jiske parinam swarup jagrukta aata hai koi ek vyakti ek organisation ke lagane se nahi aata hai lekin high ek accha kadam hai ek prashansaniya kadam hai is disha me kaam kar rahi hai railway dusre sangathan kaam kar rahe hain sab log milakar jagrukta paida karne me apni bhumika ada kar raha hai dhanyavad

आपका प्रश्न है 200 रेलवे स्टेशनों पर नैपकिन डिस्पेंसर लगाए जाने वाले हैं क्या यह जागरूकता

Romanized Version
Likes  209  Dislikes    views  1832
KooApp_icon
WhatsApp_icon
8 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!