भारत में संघीय मंत्री परिषद के सदस्यों की कुल संख्या किस से अधिक नहीं हो सकती है?...


user

Vinod uttrakhand Tiwari

Author,You Tuber(Thoght Of सक्सेस)

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए यह सवाल जो है काफी अच्छा पूछा है पूछा गया है कि भी मंत्रियों की संख्या कितनी हो सकती है अगर मैं बात करूं मंत्रियों की संख्या तो कुल सदस्य संख्या के लोकसभा की 15% से अधिक नहीं हो सकती है यानी अगर आप बात करें तो करीबन 75 से 78 के बीच यह संख्या आती है मंत्री इतने ही हो सकते हैं राज्य विधान परिषदों में भी जो है विधानसभा में भी यही प्रावधान है कि 15% से अधिक मंत्रियों की संख्या नहीं होगी लेकिन यहां पर मैं एक बात बता दूं दिल्ली है पांडिचेरी है और जम्मू और कश्मीर है यहां पर जो है 10% मंत्रियों की संख्या रखी जाती है जो यूटिस विद्यालय जिसने जीव है

dekhiye yah sawaal jo hai kaafi accha poocha hai poocha gaya hai ki bhi mantriyo ki sankhya kitni ho sakti hai agar main baat karu mantriyo ki sankhya toh kul sadasya sankhya ke lok sabha ki 15 se adhik nahi ho sakti hai yani agar aap baat kare toh kariban 75 se 78 ke beech yah sankhya aati hai mantri itne hi ho sakte hain rajya vidhan parishadon me bhi jo hai vidhan sabha me bhi yahi pravadhan hai ki 15 se adhik mantriyo ki sankhya nahi hogi lekin yahan par main ek baat bata doon delhi hai pondicherry hai aur jammu aur kashmir hai yahan par jo hai 10 mantriyo ki sankhya rakhi jaati hai jo yutis vidyalaya jisne jeev hai

देखिए यह सवाल जो है काफी अच्छा पूछा है पूछा गया है कि भी मंत्रियों की संख्या कितनी हो सकती

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  150
WhatsApp_icon
11 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

PRAMOD KUMAR

Retired IFS Officer | Advisor to TRIFED

1:03

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पूछा है कि भारत में संघीय मंत्रिपरिषद शिक्षक दिवस का कुल कितने संख्या इससे अधिक मीनिंग हो सकती है भारत की संविधान के अनुसार टोटल मंत्रियों की संख्या 1 से लोटस में टोटल नंबर ऑफ मेंबर्स इन लोक सभा का 15 परसेंट से ज्यादा ही मतलब पूरे लोकसभा में जितने मेंबर से उनका 15 परसेंट मैक्सिमम इतने तक आप के मंत्री का मंत्रियों की संख्या व सकता है काउंसिल आफ मिनिस्टर धन्यवाद

aapne poocha hai ki bharat mein sanghiy mantriparishad shikshak divas ka kul kitne sankhya isse adhik meaning ho sakti hai bharat ki samvidhan ke anusaar total mantriyo ki sankhya 1 se lotus mein total number of members in lok sabha ka 15 percent se zyada hi matlab poore lok sabha mein jitne member se unka 15 percent maximum itne tak aap ke mantri ka mantriyo ki sankhya va sakta hai council of minister dhanyavad

आपने पूछा है कि भारत में संघीय मंत्रिपरिषद शिक्षक दिवस का कुल कितने संख्या इससे अधिक मीनिं

Romanized Version
Likes  331  Dislikes    views  5699
WhatsApp_icon
user

umrao Singh

Professor ( Ph.d)

1:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में संसदीय प्रणाली के तहत जो सबसे महत्वपूर्ण होता है वह तब तक कैबिनेट इसलिए संसदीय प्रणाली को मंत्रिमंडलीय शासन प्रणाली भी कहा जाता है मंत्रिपरिषद का जो आकार होगा वह कितना होगा किस प्रकार का होगा इसके लिए समय-समय पर परिवर्तन होते रहे परंतु 91 कंजर्वेशन एंबेडमेंट के बाद से केंद्र के स्तर पर और राज्यों के स्तर पर मंत्री मंडल के सदस्यों की संख्या का निर्धारण कर दिया गया है अब उस सभा के लोकप्रिय सभा के कुल सदस्यों के 15% से अधिक नहीं हो सकते अर्थात जो शंका मंत्रिपरिषद और मंत्रिमंडल है उसमें कुल सभा के सदस्यों के 15% सदस्य ही शामिल हो सकते हैं और राज्यों में राज्यों की विधानसभाओं के कुल सदस्यों के 15% से अधिक सदस्य नहीं हो सकते लेकिन अपवाद के रूप में जहां पर व्यवस्थापिका में सदस्यों की संख्या कम है वहां पर कुछ निश्चित संख्या निर्धारित की गई है धन्यवाद

bharat me sansadiya pranali ke tahat jo sabse mahatvapurna hota hai vaah tab tak cabinet isliye sansadiya pranali ko mantrimandaliy shasan pranali bhi kaha jata hai mantriparishad ka jo aakaar hoga vaah kitna hoga kis prakar ka hoga iske liye samay samay par parivartan hote rahe parantu 91 conservation embedament ke baad se kendra ke sthar par aur rajyo ke sthar par mantri mandal ke sadasyon ki sankhya ka nirdharan kar diya gaya hai ab us sabha ke lokpriya sabha ke kul sadasyon ke 15 se adhik nahi ho sakte arthat jo shanka mantriparishad aur mantrimandal hai usme kul sabha ke sadasyon ke 15 sadasya hi shaamil ho sakte hain aur rajyo me rajyo ki vidhansabhaon ke kul sadasyon ke 15 se adhik sadasya nahi ho sakte lekin apavad ke roop me jaha par vyavasthapika me sadasyon ki sankhya kam hai wahan par kuch nishchit sankhya nirdharit ki gayi hai dhanyavad

भारत में संसदीय प्रणाली के तहत जो सबसे महत्वपूर्ण होता है वह तब तक कैबिनेट इसलिए संसदीय प्

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  108
WhatsApp_icon
user

Mehmood Alum

Law Student

0:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

90 फर्स्ट कांस्टीट्यूशनल अमेंडमेंट 2003 के द्वारा यह तय किया गया है कि केंद्रीय मंत्री परिषद के मंत्रियों की अधिकतम संख्या लोकसभा की कुल सदस्य संख्या का 15% से अधिक नहीं होगी न्यूनतम सीमा निर्धारित नहीं है

90 first kanstityushanal Amendment 2003 ke dwara yah tay kiya gaya hai ki kendriya mantri parishad ke mantriyo ki adhiktam sankhya lok sabha ki kul sadasya sankhya ka 15 se adhik nahi hogi ninuntam seema nirdharit nahi hai

90 फर्स्ट कांस्टीट्यूशनल अमेंडमेंट 2003 के द्वारा यह तय किया गया है कि केंद्रीय मंत्री परि

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  130
WhatsApp_icon
user

भारत कुमार शर्मा

लेखक,चिंतक,विचारक

0:58
Play

Likes  4  Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
user
1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने प्रश्न किया है भारत में संघीय मंत्रिपरिषद के सदस्यों की कुल संख्या अधिक नहीं हो सकते चलो बहुत अच्छी बात बता चप्पल चलिए चर्चा करते हैं तू ही निर्भर करता है सरकार के कार्य करने का कार्य क्या हुआ सरकार का पर कितना कार्य पूछो लेकिन 91 91 वे संविधान संशोधन अधिनियम 2003 के द्वारा मंत्रिपरिषद की आकार को निश्चित कर दिया गया अब इस कानून के अनुसार केंद्रीय तंगी मंत्रिपरिषद में प्रधानमंत्री सहित मंत्रियों की कुल सदस्य संख्या लोकसभा की कुल सदस्य संख्या के 15% से अधिक नहीं होगी वर्तमान में या वर्तमान सरकार में 70 से भी अधिक मंत्री हैं इसी कानून के अनुसार

aapne prashna kiya hai bharat me sanghiy mantriparishad ke sadasyon ki kul sankhya adhik nahi ho sakte chalo bahut achi baat bata chappal chaliye charcha karte hain tu hi nirbhar karta hai sarkar ke karya karne ka karya kya hua sarkar ka par kitna karya pucho lekin 91 91 ve samvidhan sanshodhan adhiniyam 2003 ke dwara mantriparishad ki aakaar ko nishchit kar diya gaya ab is kanoon ke anusaar kendriya tangi mantriparishad me pradhanmantri sahit mantriyo ki kul sadasya sankhya lok sabha ki kul sadasya sankhya ke 15 se adhik nahi hogi vartaman me ya vartaman sarkar me 70 se bhi adhik mantri hain isi kanoon ke anusaar

आपने प्रश्न किया है भारत में संघीय मंत्रिपरिषद के सदस्यों की कुल संख्या अधिक नहीं हो सकते

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  142
WhatsApp_icon
user

Naresh

Teacher

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत आपका प्रश्न है कि भारत में संघीय मंत्रिपरिषद के सदस्यों की कुल संख्या किस से अधिक नहीं हो सकती तो इसका आंसर यह है कि 91 संविधान संशोधन 2004 के अनुसार 2004 के अनुसार द्वारा दर्ज किया गया कि केंद्र केंद्रीय मंत्रिपरिषद में लोकसभा की कुल संख्या सदस्यों की संख्या 15% से अधिक नहीं होगी इस प्रकार प्रधानमंत्री और मंत्रिपरिषद में सदस्यों की अधिकतम संख्या के समान संख्या के मामले में अपने विवेक का प्रयोग नहीं कर सकते हैं धन्यवाद

bharat aapka prashna hai ki bharat mein sanghiy mantriparishad ke sadasyon ki kul sankhya kis se adhik nahi ho sakti toh iska answer yah hai ki 91 samvidhan sanshodhan 2004 ke anusaar 2004 ke anusaar dwara darj kiya gaya ki kendra kendriya mantriparishad mein lok sabha ki kul sankhya sadasyon ki sankhya 15 se adhik nahi hogi is prakar pradhanmantri aur mantriparishad mein sadasyon ki adhiktam sankhya ke saman sankhya ke mamle mein apne vivek ka prayog nahi kar sakte hain dhanyavad

भारत आपका प्रश्न है कि भारत में संघीय मंत्रिपरिषद के सदस्यों की कुल संख्या किस से अधिक नही

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  110
WhatsApp_icon
user

Ram Sanehi

बेरोजगार

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में संघीय मंत्रिपरिषद की संख्या लोकसभा सदस्य की संख्या पर निर्भर करता है भारतीय संविधान के अनुसार संघीय मंत्रिपरिषद के लोकसभा सदन में वर्तमान में 545 सीटों के लिए चुनाव कराए जाते हैं और संगीत मंत्री परिषद की संख्या कुल लोकसभा सीटों की संख्या का 15% से ज्यादा नहीं हो सकता है वर्तमान में 545 का 15% निकाले तो कुल 82 मंत्री वर्तमान में हो सकते हैं 82 से एक भी ज्यादा मंत्री पूरे भारत में नहीं हो सकते संगी मंत्री परिषद ने इसलिए आपका सकते हैं कि भारत में संघीय मंत्रिपरिषद के सदस्यों की कुल संख्या 15% से अधिक नहीं हो सकती

bharat me sanghiy mantriparishad ki sankhya lok sabha sadasya ki sankhya par nirbhar karta hai bharatiya samvidhan ke anusaar sanghiy mantriparishad ke lok sabha sadan me vartaman me 545 seaton ke liye chunav karae jaate hain aur sangeet mantri parishad ki sankhya kul lok sabha seaton ki sankhya ka 15 se zyada nahi ho sakta hai vartaman me 545 ka 15 nikale toh kul 82 mantri vartaman me ho sakte hain 82 se ek bhi zyada mantri poore bharat me nahi ho sakte sangi mantri parishad ne isliye aapka sakte hain ki bharat me sanghiy mantriparishad ke sadasyon ki kul sankhya 15 se adhik nahi ho sakti

भारत में संघीय मंत्रिपरिषद की संख्या लोकसभा सदस्य की संख्या पर निर्भर करता है भारतीय संविध

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  102
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में संघीय मंत्रिपरिषद के सदस्यों की कुल संख्या लोकसभा के 15% से अधिक नहीं हो सकते उन्हें लोकसभा सदस्यों की जो संख्या से 15% से अधिक मंत्री परिषद के सदस्यों की संख्या नहीं हो सकती

bharat me sanghiy mantriparishad ke sadasyon ki kul sankhya lok sabha ke 15 se adhik nahi ho sakte unhe lok sabha sadasyon ki jo sankhya se 15 se adhik mantri parishad ke sadasyon ki sankhya nahi ho sakti

भारत में संघीय मंत्रिपरिषद के सदस्यों की कुल संख्या लोकसभा के 15% से अधिक नहीं हो सकते उन्

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  67
WhatsApp_icon
user

munmun

Volunteer

0:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

इसका जो आंसर होगा लोकसभा के सदस्यों की कुल संख्या का 15% होगा

iska jo answer hoga lok sabha ke sadasyon ki kul sankhya ka 15 hoga

इसका जो आंसर होगा लोकसभा के सदस्यों की कुल संख्या का 15% होगा

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  26
WhatsApp_icon
user
1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न बहुत उत्तम है इस प्रश्न के जवाब के लिए मैं आपको थोड़ी सी बात बताऊंगा अनुच्छेद 75 के अनुसार 15 प्रधानमंत्री की नियुक्ति राष्ट्रपति करेगा और अन्य मंत्रियों की नियुक्ति राष्ट्रपति प्रधानमंत्री की सलाह से करेंगे आने का मतलब है कि प्रधानमंत्री की जीवनी युक्ति है या राष्ट्रपति कर लेंगे और और जितने भी मंत्री होगी उन मंत्रियों का जो नियुक्ति होगी वो राष्ट्रपति प्रधानमंत्री के सलाह से करेंगे सीधी सी बात दूसरी पर आपका जो प्रश्न है कि मंत्रिपरिषद मंत्रिपरिषद के सदस्यों की कुल संख्या किस से अधिक नहीं होनी चाहिए यह संविधान में 182 वां संविधान संशोधन अधिनियम 2003 के अंतर्गत यह लागू कर दिया गया कि लोकसभा के कुल सदस्य संख्या का 15% पर 15% से ज्यादा मंत्री नहीं रह सकता है इस तरह से राज्य में भी लागू हो सकता है कि जितना भी होगा उसका 15% से ज्यादा किसी भी मंत्री को नहीं बने एक एग्जांपल के तौर पर समझ सकते हैं कि 300 सीट है कहीं भी मजे की विधानसभा का 300 सीट है 300 सीट का 15 परसेंट कितना होगा 5 मेंबर को ही मंत्री बनाया जा सकता है अलग-अलग विभागों के लिए अलग-अलग

aapka prashna bahut uttam hai is prashna ke jawab ke liye main aapko thodi si baat bataunga anuched 75 ke anusaar 15 pradhanmantri ki niyukti rashtrapati karega aur anya mantriyo ki niyukti rashtrapati pradhanmantri ki salah se karenge aane ka matlab hai ki pradhanmantri ki jeevni yukti hai ya rashtrapati kar lenge aur aur jitne bhi mantri hogi un mantriyo ka jo niyukti hogi vo rashtrapati pradhanmantri ke salah se karenge seedhi si baat dusri par aapka jo prashna hai ki mantriparishad mantriparishad ke sadasyon ki kul sankhya kis se adhik nahi honi chahiye yah samvidhan mein 182 va samvidhan sanshodhan adhiniyam 2003 ke antargat yah laagu kar diya gaya ki lok sabha ke kul sadasya sankhya ka 15 par 15 se zyada mantri nahi reh sakta hai is tarah se rajya mein bhi laagu ho sakta hai ki jitna bhi hoga uska 15 se zyada kisi bhi mantri ko nahi bane ek example ke taur par samajh sakte hain ki 300 seat hai kahin bhi maje ki vidhan sabha ka 300 seat hai 300 seat ka 15 percent kitna hoga 5 member ko hi mantri banaya ja sakta hai alag alag vibhagon ke liye alag alag

आपका प्रश्न बहुत उत्तम है इस प्रश्न के जवाब के लिए मैं आपको थोड़ी सी बात बताऊंगा अनुच्छेद

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  84
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!