क्या शादी शुदा औरत को अपने पति के होते हुए भी किसी दूसरे इंसान से प्यार हो सकता है?...


play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:56

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वेस्टर्न कल्चर की ऑनलाइन करने वाली जो महिलाएं हैं उनके लिए कोई पत्ते नहीं होते तो विवाह करती हो उनकी 30 40 इच्छाओं की पूर्ति करना आनंद प्राप्त करना ही चरम लक्ष होता है वह आज शादी कर लेंगी और यदि संबंध भर जाता है उसी दिन उसका दूसरे पकड़ लेती है प्रतीक्षा की जिंदगी नहीं होती क्योंकि वेस्टर्न कल्चर फॉर वेजिटेबल जीवन के आनंद को प्राप्त करना ही एकमात्र लक्ष्य मांगते हैं उनके लिए सभी उचित रास्ते हैं जबकि इससे भी कोई परहेज नहीं करते जबकि एक शादीशुदा हमारी इंडियन कल्चर जो है वह इस बात को कहती है कि शादीशुदा महिला को दूसरे से प्रेम नहीं करना चाहिए और वह अनुचित पहले आप पुराने भजन को को देखे तो मरते मर गई महिलाएं आज भी रहेगी लेकिन उन्होंने गलत कदम नहीं उठाया क्योंकि पहले तो यह थी कि महिलाएं अपने पति के साथ ही शक्ति होती थी उस वक्त का क्या पता कि हमारी इंडियन कल्चर कल्चर थी लेकिन वेस्टर्न कल्चर का मैच 3:00 बजे वहां केवल जीवन आनंद प्राप्ति है चपरासी को शाम चित्र वासियों और यह रास्ता बिल्कुल अनुचित है उसे किसी ने पति को पति विवाद हुआ है भारतीय संस्कृति यह नहीं कहते कि पति भी दुर्योधन बन गया दूसरा का मन कर के फिर आराम करता फिरे उसको भी श्रीराम बनने के लिए मर्यादित किया गया है और महिला को भी सीता मनकर के जीने के लिए कहा गया है लेकिन यह वेस्टर्न कल्चर वाले कभी भी इस बात पर ध्यान नहीं देते कि आज तक उचित है या अनुचित आरती आनंद प्राप्त करना है वैसे ही गलत है

western culture ki online karne wali jo mahilaye hai unke liye koi patte nahi hote toh vivah karti ho unki 30 40 ikchao ki purti karna anand prapt karna hi charam lakshya hota hai wah aaj shadi kar leangi aur yadi sambandh bhar jata hai usi din uska dusre pakad leti hai pratiksha ki zindagi nahi hoti kyonki western culture for vegetable jeevan ke anand ko prapt karna hi ekmatra lakshya mangate hai unke liye sabhi uchit raste hai jabki isse bhi koi parhej nahi karte jabki ek shaadishuda hamari indian culture jo hai wah is BA at ko kehti hai ki shaadishuda mahila ko dusre se prem nahi karna chahiye aur wah anuchit pehle aap purane bhajan ko ko dekhe toh marte mar gayi mahilaye aaj bhi rahegi lekin unhone galat kadam nahi uthaya kyonki pehle toh yeh thi ki mahilaye apne pati ke saath hi shakti hoti thi us waqt ka kya pata ki hamari indian culture culture thi lekin western culture ka match 3:00 BA je wahan keval jeevan anand prapti hai chaprasi ko shaam chitra vasiyo aur yeh rasta bilkul anuchit hai use kisi ne pati ko pati vivaad hua hai bharatiya sanskriti yeh nahi kehte ki pati bhi duryodhan BA n gaya doosra ka man kar ke phir aaram karta fire usko bhi shriram BA nne ke liye maryadit kiya gaya hai aur mahila ko bhi sita manekar ke jeene ke liye kaha gaya hai lekin yeh western culture wale kabhi bhi is BA at par dhyan nahi dete ki aaj tak uchit hai ya anuchit aarti anand prapt karna hai waise hi galat hai

वेस्टर्न कल्चर की ऑनलाइन करने वाली जो महिलाएं हैं उनके लिए कोई पत्ते नहीं होते तो विवाह कर

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  455
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
शादीशुदा एक्स वीडियो ; शादीशुदा औरत का एक्स एक्स एक्स ; एक्स एक्स एक्स वीडियो शादीशुदा औरत ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!