हमारे देश में आरक्षण कब खत्म होगा?...


play
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:23

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे ऐसा लगता है कि हमारे देश में आरक्षण खत्म हो यह एक बड़ी समस्या नहीं है अपितु आरक्षण की व्यवस्था सही हो यह ज्यादा जरूरी और सोचने वाली बात है अभी जो आरक्षण व्यवस्था है अगर उसमें कुछ सुधार कर दिए जाएं तो यह समस्या नहीं होकर कमजोर और आर्थिक रुप से कमजोर लोगों के लिए वरदान बन जाएगा इसके लिए समाज को स्वयं ही कदम उठाने चाहिए जो आर्थिक रुप से संपन्न है उन्हें आरक्षण क्यों चाहिए आरक्षण उन्हें मिलना चाहिए जिन्हें इसकी जरूरत है हर जाति में हर संप्रदाय में अमीर व गरीब होते हैं तो फिर आरक्षण जाति और संप्रदाय के बेस पर क्यों होना चाहिए आरक्षण होना चाहिए व्यक्ति की आर्थिक स्थिति को मद्देनजर रखते अभी भी अगर एक परिवार में आरक्षण से एक व्यक्ति अच्छे मकान पर अच्छी नौकरी पा जाता है तो उस परिवार की आर्थिक स्थिति मजबूत हो जाती है वह निर्मल वसई नहीं रहता है इसीलिए दोबारा उस परिवार के किसी और सदस्य को आरंभ आरक्षण का लाभ नहीं मिलना चाहिए इसकी वजह से कई योग्य व्यक्ति आगे बढ़ने से रुक जाते हैं और भी कई सुधार किए जा सकते हैं जिससे आरक्षण सुविधा देने वाला बने ना कि वैमनस्य और नफरत फैलाने वाला जिससे देश में अराजकता पैदा हो

mujhe aisa lagta hai ki hamare desh mein aarakshan khatam ho yah ek badi samasya nahi hai apitu aarakshan ki vyavastha sahi ho yah zyada zaroori aur sochne wali baat hai abhi jo aarakshan vyavastha hai agar usme kuch sudhaar kar diye jaye toh yah samasya nahi hokar kamjor aur aarthik roop se kamjor logo ke liye vardaan ban jaega iske liye samaj ko swayam hi kadam uthane chahiye jo aarthik roop se sampann hai unhe aarakshan kyon chahiye aarakshan unhe milna chahiye jinhen iski zarurat hai har jati mein har sampraday mein amir va garib hote hain toh phir aarakshan jati aur sampraday ke base par kyon hona chahiye aarakshan hona chahiye vyakti ki aarthik sthiti ko maddenajar rakhte abhi bhi agar ek parivar mein aarakshan se ek vyakti acche makan par achi naukri paa jata hai toh us parivar ki aarthik sthiti majboot ho jaati hai vaah nirmal vasai nahi rehta hai isliye dobara us parivar ke kisi aur sadasya ko aarambh aarakshan ka labh nahi milna chahiye iski wajah se kai yogya vyakti aage badhne se ruk jaate hain aur bhi kai sudhaar kiye ja sakte hain jisse aarakshan suvidha dene vala bane na ki vaimanasya aur nafrat felane vala jisse desh mein arajkata paida ho

मुझे ऐसा लगता है कि हमारे देश में आरक्षण खत्म हो यह एक बड़ी समस्या नहीं है अपितु आरक्षण की

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  220
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!