भगवान् हर जगह है, फिर हम मंदिर क्यों जाते हैं?...


user

अनमोल मणी

योग शिक्षक

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान तो हर जगह नहीं है भैया भगवान तो परमधाम का रहने वाला है भगवान की शक्ति है कण-कण में भगवान नहीं है कण-कण भगवान का है यह सब मंदिर तो हम अपने मन को एकाग्र करने के लिए जाते हैं यदि आपका मन एकाग्र है तो मंदिर जाने की आवश्यकता नहीं है लोगों के मन भटके थे इसलिए लोगों ने मंदिर बनाया मन को एकाग्र अगर आप घर को मंदिर बना लेते हैं घर में शांति रखते हैं घर में आपस में प्रेम रखते हैं घर में जुने बेईमानी का धन नहीं लाते घर में किसी से लड़ते झगड़ते नहीं है घर में यदि आपको रोज नहीं करते हैं घर में अभी मांसाहार नहीं का उपयोग नहीं करते हैं घर में मनमानी नहीं करते हैं तो घर ही आपका एक मंदिर है घर को अगर पवित्र बनाते हैं पांच विकारों से आप मुक्त जीवन जीते हैं तो आपका घर ही मंदिर है हमारा तो घर ही मंदिर है भाई साहब हमने अपने घर को ही मंदिर बनाया हुआ है लोग दर्शन करने हमारे हमको हम हमारे दर्शन करने आते हैं और लोगों को लगता है कि घर मंदिर है इसी तरह आप भी अभी अपने घर को मंदिर बना लेते हैं शुद्ध पवित्र शक्ति ईमानदारी वफादारी यह सब गुणों को आप लात मैं तो आपका घर भी मंदिर बन जाएगा जैसे हमने अपने घर को मंदिर बना लिया लोग हमारे घर में आते हैं तुमको बिल्कुल मंदिर की फीलिंग होती है

bhagwan toh har jagah nahi hai bhaiya bhagwan toh paramadham ka rehne vala hai bhagwan ki shakti hai kan kan me bhagwan nahi hai kan kan bhagwan ka hai yah sab mandir toh hum apne man ko ekagra karne ke liye jaate hain yadi aapka man ekagra hai toh mandir jaane ki avashyakta nahi hai logo ke man bhatke the isliye logo ne mandir banaya man ko ekagra agar aap ghar ko mandir bana lete hain ghar me shanti rakhte hain ghar me aapas me prem rakhte hain ghar me june baimani ka dhan nahi laate ghar me kisi se ladte jhagadate nahi hai ghar me yadi aapko roj nahi karte hain ghar me abhi mansahaari nahi ka upyog nahi karte hain ghar me manmani nahi karte hain toh ghar hi aapka ek mandir hai ghar ko agar pavitra banate hain paanch vikaron se aap mukt jeevan jeete hain toh aapka ghar hi mandir hai hamara toh ghar hi mandir hai bhai saheb humne apne ghar ko hi mandir banaya hua hai log darshan karne hamare hamko hum hamare darshan karne aate hain aur logo ko lagta hai ki ghar mandir hai isi tarah aap bhi abhi apne ghar ko mandir bana lete hain shudh pavitra shakti imaandaari wafadaaree yah sab gunon ko aap laat main toh aapka ghar bhi mandir ban jaega jaise humne apne ghar ko mandir bana liya log hamare ghar me aate hain tumko bilkul mandir ki feeling hoti hai

भगवान तो हर जगह नहीं है भैया भगवान तो परमधाम का रहने वाला है भगवान की शक्ति है कण-कण में

Romanized Version
Likes  124  Dislikes    views  1935
KooApp_icon
WhatsApp_icon
9 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!