बजट में SC और ST के लिए 56k और 39k करोड़ रुपये। क्या भाजपा भी जातिगत राजनीति कर रही है?...


user

Shubham

Software Engineer in IBM

1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखी दोस्त आज जो बजट पेश हुआ था और जिस में ऐसी और ST के लिए लगभग 56000 करोड़ और 40000 करोड़ के आसपास अलॉट किए गए हैं कि मुझे ऐसा नहीं लगता है कि कि भाजपा जातिगत राजनीति कर रही है देखिए आज हमारे देश में जो शेड्यूल कास्ट है और स्टूडेंट ड्राइवर आजचे क्या बीते सालों से जब से देश आजाद हुआ है और काफी उससे पहले भी जो हमारे शेड्यूल कास्ट शेड्यूल ट्राइब्स की जो हालत है वह काफी अच्छी नहीं है और अगर मैं बात करूं ब्लू पावर्टी लाइन की तो जो शेडूल कास्ट और शेड्यूल ट्राइब में जो लोग बिलो पावर्टी लाइन है जितना पर्सेंट बिलो पावर्टी लाइन है वही काफी ज्यादा है इस कंप्यूटर जनरल केटेगरी या अलग ऊंची कास्ट के कंपेयर में अगर अपन बात करें तो तो मुझे लगता है कि हम हम लोगों को इन लोगों को अच्छी अपॉर्चुनिटी देनी चाहिए और उनकी हेल्प करनी चाहिए तो और उनको काफी ज्यादा जरूरत भी है तो मुझे लगता है कि गवर्नमेंट ने नहीं कुछ सोच कर इतना इतने करोड रुपए इनको लोड किए गए ताकि उनकी व्यवस्था में सुधार आ पाए और 2004 के और 2004 से लेकर 2005 की सर्वे और एक 2011 से लेकर 2013 के सभी से यह पता चला है कि लगभग 40% से ज्यादा क्योंकि SC ST पीपल है उनका 40% से ज्यादा वह लोग बिलो पावर्टी लाइन में तो मुझे लगता है काफी ज्यादा रेशम है तो इसमें सुधार आना चाहिए इसलिए लोड किया गया है और रही बात जातिवाद करना और बोर्ड के लिए ऐसा करना तो मुझे नहीं लगता है कि भाजपा यह जातिवाद कर रही है ऐसा कुछ नहीं है अगर जातिवाद को वोट के लिए कर दी तो मैं ट्रिपल ट्रिपल तलाक का मुद्दा नहीं उठाती अगर वोट के लिए ही करती हो थैंक यू

dekhi dost aaj jo budget pesh hua tha aur jis mein aisi aur ST ke liye lagbhag 56000 crore aur 40000 crore ke aaspass alat kiye gaye hain ki mujhe aisa nahi lagta hai ki ki bhajpa jaatigat raajneeti kar rahi hai dekhiye aaj hamare desh mein jo schedule caste hai aur student driver ajache kya bite salon se jab se desh azad hua hai aur kaafi usse pehle bhi jo hamare schedule caste schedule tribes ki jo halat hai vaah kaafi achi nahi hai aur agar main baat karu blue poverty line ki toh jo shedul caste aur schedule tribe mein jo log below poverty line hai jitna percent below poverty line hai wahi kaafi zyada hai is computer general category ya alag uchi caste ke compare mein agar apan baat kare toh toh mujhe lagta hai ki hum hum logo ko in logo ko achi opportunity deni chahiye aur unki help karni chahiye toh aur unko kaafi zyada zarurat bhi hai toh mujhe lagta hai ki government ne nahi kuch soch kar itna itne crore rupaye inko load kiye gaye taki unki vyavastha mein sudhaar aa paye aur 2004 ke aur 2004 se lekar 2005 ki survey aur ek 2011 se lekar 2013 ke sabhi se yah pata chala hai ki lagbhag 40 se zyada kyonki SC ST pipal hai unka 40 se zyada vaah log below poverty line mein toh mujhe lagta hai kaafi zyada resham hai toh isme sudhaar aana chahiye isliye load kiya gaya hai aur rahi baat jaatiwad karna aur board ke liye aisa karna toh mujhe nahi lagta hai ki bhajpa yah jaatiwad kar rahi hai aisa kuch nahi hai agar jaatiwad ko vote ke liye kar di toh main triple triple talak ka mudda nahi uthaati agar vote ke liye hi karti ho thank you

देखी दोस्त आज जो बजट पेश हुआ था और जिस में ऐसी और ST के लिए लगभग 56000 करोड़ और 40000 करोड

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  191
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!