हम घर में क्यों रहते हैं इस सवाल का जवाब दीजिए?...


play
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:26

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब ह्यूमन सिविलाइजेशन शुरू हुआ था उस समय इंसान को केवल एक ही जाती थी वह शिकार करना और इसके लिए फंक्शन चाहिए थी शिकार करना इसलिए जरूरी था क्योंकि लोगों को यह पता था क्यों नहीं भूख लगती है और भूख को खत्म करने के लिए शिकार किया जाता है और क्यों खाया जाता है इसके लाभ वह घास को भी खाए थे ह्यूमन पहले तो उनकी यह चीज कि पहले डाइजेशन करने की शक्ति जब तू नहीं है उसके बाद हुआ यह कि इंसान को अपने आप को कुछ चीजों से बचाने के लिए जैसे कांटे से पत्थर से पेड़ों से उस समय काफी ज्यादा ही चीजें डेवलप हुआ करती थी और जरा जरा सी अब जो चीजें चोट थी वह काफी गहरी हो जाती थी तो इन चीजों से बचाने के लिए अपने आप को शिकार उसे फिर से हाथियों से बड़े-बड़े जानवरों से अपने आप को बचाने के लिए क्यों मना एक तरीका सोचा पहले तो उन्होंने अपने आप को छोटे मोटे खतरों से बचाने के लिए कपड़े पहने कपड़े पहनने के लिए जिन का शिकार करते थे उनकी छाले बनाई उनकी छालों को पहना पत्तों को पहना इसके साथ धीरे-धीरे भक्तों को पहनना शुरू किया इसी तरह से उन्होंने सी सपना ही जब उन्हें बड़े-बड़े जानवरों से खतरा था तो उन्होंने एक गुफा के अंदर किसी और चीज के अंदर रहना शुरू कर दिया धीरे-धीरे सिविलाइजेशन बढ़ता गया तो झोंपड़ियां बनाई गई और एक साथ कम्युनिटी में रह लगे तो कि ज्यादा लोग होंगे तो उन्हें पता था कि हम को मारना आसान नहीं है कमेटी बनाकर लगे कि समाज में रहने लगे धीरे-धीरे मकान बनाए कच्चे मकान बनाए थे पक्के मकान बनाए घर में रहने का बेसिक रीज़न था कि इंसान अपनी सिक्योरिटी खुद कर सके

jab human civilisation shuru hua tha us samay insaan ko keval ek hi jaati thi vaah shikaar karna aur iske liye function chahiye thi shikaar karna isliye zaroori tha kyonki logo ko yah pata tha kyon nahi bhukh lagti hai aur bhukh ko khatam karne ke liye shikaar kiya jata hai aur kyon khaya jata hai iske labh vaah ghas ko bhi khaye the human pehle toh unki yah cheez ki pehle digestion karne ki shakti jab tu nahi hai uske baad hua yah ki insaan ko apne aap ko kuch chijon se bachane ke liye jaise kante se patthar se pedon se us samay kaafi zyada hi cheezen develop hua karti thi aur zara zara si ab jo cheezen chot thi vaah kaafi gehri ho jaati thi toh in chijon se bachane ke liye apne aap ko shikaar use phir se haathiyo se bade bade jaanvaro se apne aap ko bachane ke liye kyon mana ek tarika socha pehle toh unhone apne aap ko chote mote khataron se bachane ke liye kapde pehne kapde pahanne ke liye jin ka shikaar karte the unki chhale banai unki chhaalon ko pehna patton ko pehna iske saath dhire dhire bhakton ko pahanna shuru kiya isi tarah se unhone si sapna hi jab unhe bade bade jaanvaro se khatra tha toh unhone ek gufa ke andar kisi aur cheez ke andar rehna shuru kar diya dhire dhire civilisation badhta gaya toh jhompadiyan banai gayi aur ek saath community mein reh lage toh ki zyada log honge toh unhe pata tha ki hum ko marna aasaan nahi hai committee banakar lage ki samaj mein rehne lage dhire dhire makan banaye kacche makan banaye the pakke makan banaye ghar mein rehne ka basic region tha ki insaan apni Security khud kar sake

जब ह्यूमन सिविलाइजेशन शुरू हुआ था उस समय इंसान को केवल एक ही जाती थी वह शिकार करना और इसके

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  253
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
क्यों दीजिए ; हम घर में ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!