क्या ताशकंद समझौते में पीएम शास्त्री जी की मृत्यु साजिश का परिणाम थी?...


play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत के प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी की मौत एक साजिश और संदेह के दायरे में सदैव रही है उस पर प्रश्न उनके परिवार ने भी उठाए और भारत का जनमानस भी उसको संदेह के दायरे में देखता है 1965 की भारत और पाकिस्तान की युद्ध के बाद सोवियत संघ के राष्ट्रपति ने दोनों देशों के बीच मध्यस्थता के लिए यह समझौता आमंत्रित किया था जो उस समय के तत्कालीन सोवियत संघ के शहर ताशकंद में हो रहा था शास्त्री जी को ताशकंद शहर से 20 किलोमीटर दूर एक होटल में रोका गया था जहां समझौते के बाद रात में उसकी मृत्यु हो गई उनके साथ भारत के मशहूर लेखक और पत्रकार कुलदीप नैयर रुके हुए थे उन्होंने अपनी पुस्तक भी ऑनलाइन में लिखा है कि रात में जब वह सो रहे थे तो एक रूसी महिला ने का दरवाजा खटखटाया और बताया कि आपकी प्रधानमंत्री की हालत बहुत खराब है जो भूखे उनकी घूमने दिखाओ उन्होंने तो लाल बहादुर शास्त्री जी नहीं थी उनकी पत्नी ललिता देवी ने उनके बेटों ने यह आरोप लगाया कि लाल बहादुर शास्त्री जी का शरीर नीला पड़ गया था और शरीर पर कटे के निशान भी थे साथ ही एक डायरी वो हमेशा रखते अपने पासपोर्ट डाली थी उनके पास से नहीं मिली उस जगह से तो सबसे पहला संदेश उनके परिवार नहीं लगाया फिर जिन परिस्थितियों में उनकी मौत हुई उनको कभी दिल की बीमारी नहीं थी ऐसा उनके डॉक्टर ने बताया बावजूद उसके उनकी जब जांच भारत में सौंपी गई तो बिल्कुल निचले स्तर के जिला स्तर के पुलिस के अधिकारियों को सौंप दी गई जबकि भारत के प्रधानमंत्री की मौत हुई थी जिसकी बहुत ही उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए थी वह अपने आप में यह सब कुछ साक्ष्य है जिसे महसूस होता है कि कहीं न कहीं कुछ न कुछ दाल में काला अवश्य लाल बहादुर शास्त्री जी की मौत एक सामान्य

bharat ke pradhanmantri laal bahadur shastri ji ki maut ek saajish aur sandeh ke daayre mein sadaiv rahi hai us par prashna unke parivar ne bhi uthye aur bharat ka janmanas bhi usko sandeh ke daayre mein dekhta hai 1965 ki bharat aur pakistan ki yudh ke baad soviet sangh ke rashtrapati ne dono deshon ke beech madhyasthata ke liye yah samjhauta aamantrit kiya tha jo us samay ke tatkalin soviet sangh ke shehar tashkand mein ho raha tha shastri ji ko tashkand shehar se 20 kilometre dur ek hotel mein roka gaya tha jaha samjhaute ke baad raat mein uski mrityu ho gayi unke saath bharat ke mashoor lekhak aur patrakar kuldeep naiyar ruke hue the unhone apni pustak bhi online mein likha hai ki raat mein jab vaah so rahe the toh ek rusi mahila ne ka darwaja khatakhataya aur bataya ki aapki pradhanmantri ki halat bahut kharab hai jo bhukhe unki ghoomne dikhaao unhone toh laal bahadur shastri ji nahi thi unki patni lalita devi ne unke beto ne yah aarop lagaya ki laal bahadur shastri ji ka sharir neela pad gaya tha aur sharir par kate ke nishaan bhi the saath hi ek diary vo hamesha rakhte apne passport dali thi unke paas se nahi mili us jagah se toh sabse pehla sandesh unke parivar nahi lagaya phir jin paristhitiyon mein unki maut hui unko kabhi dil ki bimari nahi thi aisa unke doctor ne bataya bawajud uske unki jab jaanch bharat mein saumpi gayi toh bilkul nichle sthar ke jila sthar ke police ke adhikaariyo ko saunp di gayi jabki bharat ke pradhanmantri ki maut hui thi jiski bahut hi ucch stariy jaanch honi chahiye thi vaah apne aap mein yah sab kuch sakshya hai jise mehsus hota hai ki kahin na kahin kuch na kuch daal mein kaala avashya laal bahadur shastri ji ki maut ek samanya

भारत के प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी की मौत एक साजिश और संदेह के दायरे में सदैव रही

Romanized Version
Likes  359  Dislikes    views  5246
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
ताशकंद समझौता कब हुआ था ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!