पढ़ लिखकर इतने बड़े बड़े अफसर बनते हैं पर एक बिना पढ़े लिखे मंत्री के अंदर काम करते हैं, ऐसा क्यों?...


user

Anand Kumar

Humanitarian

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह सोच बिल्कुल गलत है कि अब पढ़ लिख कर इतने बड़े अफसर बनते हैं और बिना पढ़े लिखे मंत्री के अंदर हम लोग काम करते हैं पहली बात तो हमेशा इस बात को ध्यान रखें कि बुद्धि का बुद्धिमत्ता का एजुकेशन से कोई लेना देना नहीं है कुछ लोग पढ़ लिख कर भी बेवकूफ हो सकते हैं और कुछ लोग बिना पढ़े लिखे भी बुद्धिमान हो सकते हैं अगर आप इतिहास देखें तो इतिहास में बहुत जानी मानी हस्ती पर्सनैलिटी आपको मिलेगी ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं थे उन्होंने समाज को देश को राष्ट्र को बहुत बड़ा योगदान दिया तो यह मत सोचिए कि पढ़ लिखकर बड़े अफसर बनने पर एक अशिक्षित या कम पढ़े लिखे मंत्री के अंदर में काम करना पड़ता है यह निर्भर करता है कि मंत्री किस तरह का है ऐसे मंत्री होंगे उनके अंदर लीडरशिप क्वालिटी होती है और कैसी का काम है कि जो लोग हैं जो उनके पॉलिसी है उनको सही तरीके से और इसका सिंपल सा उदाहरण यह है कि आप अमेरिका और यूरोप में जो बहुत ही बड़ी बड़ी कंपनी है इस कंपनी के तो होश में है वह ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं है लेकिन बड़ी ही सफलता के साथ कुशलता के साथ उन्होंने उस कंपनी को मुकाम पर पहुंचाया है ऐसे लोग हैं जिन्होंने अपनी कॉलेज की पढ़ाई पूरी नहीं की स्कूल की पढ़ाई पूरी नहीं की बुद्धि ने इंटेलिजेंस में और बाकी चीजों में वह पढ़े लिखों से बहुत आगे रहे तो केवल पढ़ लिख पढ़ने लिखने से ही कोई बुद्धिमान नहीं हो जाता बिना पढ़े लिखे भी बुद्धिमान बना जा सकता है

yah soch bilkul galat hai ki ab padh likh kar itne bade officer bante hain aur bina padhe likhe mantri ke andar hum log kaam karte hain pehli baat toh hamesha is baat ko dhyan rakhen ki buddhi ka buddhimatta ka education se koi lena dena nahi hai kuch log padh likh kar bhi bewakoof ho sakte hain aur kuch log bina padhe likhe bhi buddhiman ho sakte hain agar aap itihas dekhen toh itihas me bahut jani maani hasti personality aapko milegi zyada padhe likhe nahi the unhone samaj ko desh ko rashtra ko bahut bada yogdan diya toh yah mat sochiye ki padh likhkar bade officer banne par ek ashikshit ya kam padhe likhe mantri ke andar me kaam karna padta hai yah nirbhar karta hai ki mantri kis tarah ka hai aise mantri honge unke andar leadership quality hoti hai aur kaisi ka kaam hai ki jo log hain jo unke policy hai unko sahi tarike se aur iska simple sa udaharan yah hai ki aap america aur europe me jo bahut hi badi badi company hai is company ke toh hosh me hai vaah zyada padhe likhe nahi hai lekin badi hi safalta ke saath kushalata ke saath unhone us company ko mukam par pahunchaya hai aise log hain jinhone apni college ki padhai puri nahi ki school ki padhai puri nahi ki buddhi ne intelligence me aur baki chijon me vaah padhe likhon se bahut aage rahe toh keval padh likh padhne likhne se hi koi buddhiman nahi ho jata bina padhe likhe bhi buddhiman bana ja sakta hai

यह सोच बिल्कुल गलत है कि अब पढ़ लिख कर इतने बड़े अफसर बनते हैं और बिना पढ़े लिखे मंत्री के

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  101
KooApp_icon
WhatsApp_icon
30 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!