भारतीय माता-पिता प्रेम विवाह के खिलाफ क्यों होते हैं?...


play
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:46

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय माता-पिता प्रेम विवाह के खिलाफ इसलिए होते हैं क्योंकि भारत में जो समाज है वह अलग तरीके का है हमारा समाज यूरोपीय अमेरिकी तरीके का नहीं है हमारे समाज में कई तरह की जाती है तथा धर्म में हमें बांटा गया है और हमें शुरू से सिखाया गया है कि अपनी जाति में ही विवाह करा जाता है या अपने घर में विवाह किया जाता है और यह चीज हमारे माता-पिता ने सीखी है हो सकता है हम लोग नासिक पाए हो और अच्छी बात है ना सीखें क्योंकि यूरोप में तथा मेरे काम में इस तरह की चीजें नहीं होती है कि धर्म या जाति के बाहर विवाह करना गुनाह है बिल्कुल नहीं है और यहां पर भी बिल्कुल नहीं है यहां पर भी आपको सरकार प्रोटेक्शन देती है लेकिन यह चीजें यही मानसिकता धीरे-धीरे ही मनुष्य के बाहर निकल सकती है एक ट्रांजैक्शन फीस है इस समय से चल रहा है आने वाली जनरेशन में किसी से काफी ज्यादा बढ़ जाएंगी भारतीय माता-पिता की थिंकिंग उसकी समाज रेटेड होती है कि समाज क्या कहेगा जब तक इस समाज पूरा का पूरा चेंज नहीं होगा तब तक भारत माता पिता भी कुछ नहीं कर सकते ऐसा नहीं है कि समाज नहीं परिवर्तित होगा पहले जहां सो गांव में से एक गांव में पर मिला होता था अब हर गांव में प्रेमिका होता है लेकिन हर गांव में बहुत कम होते हैं आने वाले कुछ समय में प्रेम विवाह ही काफी प्रचलित हो जाएगा लेकिन प्रेम मिलाकर भर्ती प्रेम विवाह करने से लाखों की संख्या बढ़ जाएगी और तलाक होना या ना होना किसी भी अच्छी या बुरी समझकर प्रतीक नहीं होता आपको पता है अमेरिका में तलाक ज्यादा होते हैं और लोग यहां पर खुश भी ज्यादा रहते हैं हमारे यहां पर महिलाओं को आर्थिक आजादी अभी तक प्रधानी की गई है हमारे यहां महिलाएं कम जगह जॉब करती हैं तो हमें सारे के सारे राइट्स जब एक साथ धीरे-धीरे मिलना शुरू होंगे तब जाकर

bharatiya mata pita prem vivah ke khilaf isliye hote hain kyonki bharat mein jo samaj hai vaah alag tarike ka hai hamara samaj european american tarike ka nahi hai hamare samaj mein kai tarah ki jaati hai tatha dharm mein hamein baata gaya hai aur hamein shuru se sikhaya gaya hai ki apni jati mein hi vivah kara jata hai ya apne ghar mein vivah kiya jata hai aur yah cheez hamare mata pita ne sikhi hai ho sakta hai hum log nashik paye ho aur achi baat hai na sikhe kyonki europe mein tatha mere kaam mein is tarah ki cheezen nahi hoti hai ki dharm ya jati ke bahar vivah karna gunah hai bilkul nahi hai aur yahan par bhi bilkul nahi hai yahan par bhi aapko sarkar protection deti hai lekin yah cheezen yahi mansikta dhire dhire hi manushya ke bahar nikal sakti hai ek transaction fees hai is samay se chal raha hai aane wali generation mein kisi se kaafi zyada badh jayegi bharatiya mata pita ki thinking uski samaj rated hoti hai ki samaj kya kahega jab tak is samaj pura ka pura change nahi hoga tab tak bharat mata pita bhi kuch nahi kar sakte aisa nahi hai ki samaj nahi parivartit hoga pehle jaha so gaon mein se ek gaon mein par mila hota tha ab har gaon mein premika hota hai lekin har gaon mein bahut kam hote hain aane waale kuch samay mein prem vivah hi kaafi prachalit ho jaega lekin prem milakar bharti prem vivah karne se laakhon ki sankhya badh jayegi aur talak hona ya na hona kisi bhi achi ya buri samajhkar prateek nahi hota aapko pata hai america mein talak zyada hote hain aur log yahan par khush bhi zyada rehte hain hamare yahan par mahilaon ko aarthik azadi abhi tak pradhani ki gayi hai hamare yahan mahilaye kam jagah job karti hain toh hamein saare ke saare rights jab ek saath dhire dhire milna shuru honge tab jaakar

भारतीय माता-पिता प्रेम विवाह के खिलाफ इसलिए होते हैं क्योंकि भारत में जो समाज है वह अलग तर

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  270
WhatsApp_icon
11 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ishita Seth

Obstinate Programmer

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिम भारतीय माता-पिता प्रेम विवाह के खिलाफ इसलिए होते हैं क्योंकि हम भारतीय लोगों की सोच थोड़ी कंज़र्वेटिव इन मामलों में थोड़ी सी नेहरू है वह चाहते हैं कि उनका उनके बच्चों का थी लाइफ पार्टनर है वह अच्छा हो पर्सनालिटी हो स्टैंडर्ड बढ़ा हो तो यह सारी चीजें वह देखते हैं वह चाहते हैं कि अगर उनके बच्चे का प्रेम अगन का बच्चा किसी और किसी और से प्रेम करने का फायदा है तो चलूंगी का रास्ता नहीं है या फिर से तुम से स्टैंडर्ड में थोड़ा छोटा है थोड़ा सेट में छोटा है तो इसलिए उनको प्रेम विवाह करना बिल्कुल पसंद नहीं आता क्या कर रहे हो तो उनको लगता है कि हमारे बच्चे हमारी चॉइस के हिसाब से दुआ करें ताकि प्रभाकर जोग भारती लोगों की सोच है मैं थोड़ी कंज़र्वेटिव है जिसकी आजकल तो फिर थोड़ा बहुत ही हो गया है बेटा और भी ज्यादा होता जा रहा है तो उसको कैसे चली जा रही है स्टार्टिंग से परंपराएं ऐसी है कि जिसके कारण भारतीय माता-पिता प्रेम विवाह के खिलाफ होते हैं

gym bharatiya mata pita prem vivah ke khilaf isliye hote hain kyonki hum bharatiya logo ki soch thodi kanzarvetiv in mamlon mein thodi si nehru hai vaah chahte hain ki unka unke baccho ka thi life partner hai vaah accha ho personality ho standard badha ho toh yah saree cheezen vaah dekhte hain vaah chahte hain ki agar unke bacche ka prem agan ka baccha kisi aur kisi aur se prem karne ka fayda hai toh chalungi ka rasta nahi hai ya phir se tum se standard mein thoda chota hai thoda set mein chota hai toh isliye unko prem vivah karna bilkul pasand nahi aata kya kar rahe ho toh unko lagta hai ki hamare bacche hamari choice ke hisab se dua kare taki prabhakar jog bharati logo ki soch hai thodi kanzarvetiv hai jiski aajkal toh phir thoda bahut hi ho gaya hai beta aur bhi zyada hota ja raha hai toh usko kaise chali ja rahi hai starting se paramparayen aisi hai ki jiske karan bharatiya mata pita prem vivah ke khilaf hote hain

जिम भारतीय माता-पिता प्रेम विवाह के खिलाफ इसलिए होते हैं क्योंकि हम भारतीय लोगों की सोच थो

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  141
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सुनील जी हिंदी कि मेरा ऐसा मानना है कि भारत में और दूसरे कांग्रेस में जो बच्चों को पालने का हाल बा नगर निगम को बड़ा करने का तरीका को बहुत ही डिफरेंट है फॉरेन करनी है इसमें अगर एक बच्चा 18 साल की उम्र का हो गया है तो उसके बाद वह अपना खर्चा खुद उठाएगा हमारे यहां ऐसा कुछ नहीं है गोरे होने के बाद भी मां-बाप की पेंशन से घर चलते हैं और हमारी कंट्री में मां बाप बच्चों को लेकर बहुत ही शानदार सेक्सी बजे से है बहुत ही ज्यादा फिक्रमंद रहते हैं और भारतीय मां बाप को ऐसा नहीं लगता मुझे ऐसा लगता है कि उन्हें नहीं लगता कि उनके बच्चे इतने में जोर हो गए हैं कि वह और हम ऐसे पड़े डिसीजन खुद ले सके और उन्हें लगता है हर मारते मां-बाप को लगता है कि उनके बच्चे किसी काम के नहीं है और उन्हें लगता है कि वह इतने सख्त नहीं की शादी जैसा कोई डिसीजन खुद ले सके इसलिए को सपोर्ट नहीं करते दूसरी बात हमारे यहां जो कल्चर है जो प्रथाएं हैं वहीं चली आ रही कि कोई लड़की शादी से पहले के दूसरे की तरफ देखेगी भी नहीं तो पहले खुद से लड़का जूस करने के बाद तो बहुत बाद में आती है तो इसीलिए मां-बाप भी चीज एक्सेप्ट नहीं कर पाती कि उनके बच्चे इतने बड़े हो गए कि वह ऐसा कोई डिसीजन खुद ले सके तो हमारे यहां शादी सिर्फ दो लोगों के बीच में नहीं होती तो परिवार जो चाहते हैं उम्र भर के लिए बल्कि फॉरेन कंट्री में थोड़ा डिफरेंट होता है हां वहां भी भी रिश्ते नाते होते हैं पर मेरे साथ सोचना नहीं होता जितना हमारे यहां होता है तो इसीलिए पैरेंट्स बहुत सोच समझकर जैसे सोचते हैं बट अब वक्त बदल चुका है और हमारे माता-पिता को भी सोच बदलनी चाहिए

sunil ji hindi ki mera aisa manana hai ki bharat mein aur dusre congress mein jo baccho ko palne ka haal ba nagar nigam ko bada karne ka tarika ko bahut hi different hai foreign karni hai isme agar ek baccha 18 saal ki umr ka ho gaya hai toh uske baad vaah apna kharcha khud uthayega hamare yahan aisa kuch nahi hai gore hone ke baad bhi maa baap ki pension se ghar chalte hai aur hamari country mein maa baap baccho ko lekar bahut hi shandar sexy baje se hai bahut hi zyada fikramand rehte hai aur bharatiya maa baap ko aisa nahi lagta mujhe aisa lagta hai ki unhe nahi lagta ki unke bacche itne mein jor ho gaye hai ki vaah aur hum aise pade decision khud le sake aur unhe lagta hai har marte maa baap ko lagta hai ki unke bacche kisi kaam ke nahi hai aur unhe lagta hai ki vaah itne sakht nahi ki shadi jaisa koi decision khud le sake isliye ko support nahi karte dusri baat hamare yahan jo culture hai jo prathaen hai wahi chali aa rahi ki koi ladki shadi se pehle ke dusre ki taraf dekhenge bhi nahi toh pehle khud se ladka juice karne ke baad toh bahut baad mein aati hai toh isliye maa baap bhi cheez except nahi kar pati ki unke bacche itne bade ho gaye ki vaah aisa koi decision khud le sake toh hamare yahan shadi sirf do logo ke beech mein nahi hoti toh parivar jo chahte hai umr bhar ke liye balki foreign country mein thoda different hota hai haan wahan bhi bhi rishte naate hote hai par mere saath sochna nahi hota jitna hamare yahan hota hai toh isliye pairents bahut soch samajhkar jaise sochte hai but ab waqt badal chuka hai aur hamare mata pita ko bhi soch badalni chahiye

सुनील जी हिंदी कि मेरा ऐसा मानना है कि भारत में और दूसरे कांग्रेस में जो बच्चों को पालने क

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  174
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी भारतीय माता-पिता जो है प्रेम विवाह के खिलाफ जो कई सालों से होता है ऐसा लगता है कि भारतीय परंपरा में है कि भारतीय माता-पिता जो प्रेम विवाह के खिलाफ हो इसका मुख्य कारण यह है कि भारतीय माता-पिता प्रेम विवाह के खिलाफ फैसले रहे थे कि कि उनका यह मानना है कि यह चीज है वह बाहर का कल्चर है और का नाका पर युवाओं को जो है उनके करियर से इनको और दूर रखेगा या फिर नहीं डिस्टर्ब करेगा सिर्फ इनका ही विमान है जिस प्रकार से जात पात इसमें बीच में आ जाता है कि लोग जो दूसरे जात के लोगों को या फिर दूसरी जाति के लोगों को प्रेम करते का नाका पर उनका इस चीज के विरुद्ध उनका यह मानना है कि जो कहा उसके माता-पिता है वही कास्ट के लोगों से इनकी शादी होनी चाहिए बल्कि ऐसा हमने देखा है कि कई बार जो दो अलग-अलग जाति के लोग जो है वह शादी कर रहे थे सिर्फ यही नहीं जिस प्रकार सेना भारतीय माता-पिता या फिर भारतीय परिवार में जो नारों मैंने सेव फ्रॉम कह सकते हैं हां मेंटलिटी जिस प्रकार की खराब चलती है तो खाना खाकर यही कारण होता है कि भारतीय माता-पिता जो है विवाह के खिलाफ होते हैं हम सिर्फ इनका यह मानना है कि हमारा बच्चा जो है या फिर हमारे जो भी संतान है इसको किसके साथ विवाह हुआ किस से प्रेम करें यह सिर्फ हमारा ही हक है और इसीलिए जो है वह ज्यादा अरेंज मैरिज इस पर ज्यादा प्रचार करते हैं क्योंकि उनका यह मानना है कि हमारा बच्चा है हम जो बोलेंगे उसे यही करना चाह कर आया हम हमें चाहिए कैसे शादी करे तो वैसे ही शादी करना चाहिए और सिर्फ यही नहीं आज इस प्रकार से उनका यह मानना है कि शादी के पहले कोई भी तरह का रिलेशन अच्छा नहीं होता है प्रिय मार्शल सेक्स अच्छा नहीं होता है तो यही कारण है कि भारतीय माता-पिता जो प्रेम विवाह के खिलाफ होते हैं

vicky bharatiya mata pita jo hai prem vivah ke khilaf jo kai salon se hota hai aisa lagta hai ki bharatiya parampara mein hai ki bharatiya mata pita jo prem vivah ke khilaf ho iska mukhya karan yah hai ki bharatiya mata pita prem vivah ke khilaf faisle rahe the ki ki unka yah manana hai ki yah cheez hai vaah bahar ka culture hai aur ka naka par yuvaon ko jo hai unke career se inko aur dur rakhega ya phir nahi disturb karega sirf inka hi Vimaan hai jis prakar se jaat pat isme beech mein aa jata hai ki log jo dusre jaat ke logo ko ya phir dusri jati ke logo ko prem karte ka naka par unka is cheez ke viruddh unka yah manana hai ki jo kaha uske mata pita hai wahi caste ke logo se inki shadi honi chahiye balki aisa humne dekha hai ki kai baar jo do alag alag jati ke log jo hai vaah shadi kar rahe the sirf yahi nahi jis prakar sena bharatiya mata pita ya phir bharatiya parivar mein jo naron maine save from keh sakte hain haan mentaliti jis prakar ki kharab chalti hai toh khana khakar yahi karan hota hai ki bharatiya mata pita jo hai vivah ke khilaf hote hain hum sirf inka yah manana hai ki hamara baccha jo hai ya phir hamare jo bhi santan hai isko kiske saath vivah hua kis se prem kare yah sirf hamara hi haq hai aur isliye jo hai vaah zyada arrange marriage is par zyada prachar karte hain kyonki unka yah manana hai ki hamara baccha hai hum jo bolenge use yahi karna chah kar aaya hum hamein chahiye kaise shadi kare toh waise hi shadi karna chahiye aur sirf yahi nahi aaj is prakar se unka yah manana hai ki shadi ke pehle koi bhi tarah ka relation accha nahi hota hai priya marshall sex accha nahi hota hai toh yahi karan hai ki bharatiya mata pita jo prem vivah ke khilaf hote hain

विकी भारतीय माता-पिता जो है प्रेम विवाह के खिलाफ जो कई सालों से होता है ऐसा लगता है कि भार

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

1:44
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे मुताबिक माता पिता अपने बच्चों की प्रेम विवाह के खिलाफ हो जाते हैं क्योंकि हमारा समाज इस तरह की जो विवाह होते हैं उसे अच्छा नहीं समझता है हमारा जो कल्चर है भारतीय जो कल्चर है रीति रिवाज है उसमें ऐसा माना जाता है कि प्रेम विवाह सही नहीं है और हमें अपने कास्ट में ही अपने धर्म में ही शादी करनी चाहिए और वह भी अपने परिवार वालों को यानी कि अपने माता-पिता और सगे-संबंधियों की पसंद से तो इसी वजह से मुझे लगता है कि हमारे माता-पिता जो अपने बच्चों की खुशी के लिए अपना सर्वस्व कुर्बान करने के लिए तत्पर रहते हैं वह जब शादी की बात आती है लव मैरिज की बात आती है तो अपने बच्चों के खिलाफ हो जाते हैं और लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि जब बच्चे व्यस्त हो जाते हैं तुम अपना अच्छा बुरा समझने के लायक हो जाते हैं इसलिए विश

mere mutabik mata pita apne baccho ki prem vivah ke khilaf ho jaate hain kyonki hamara samaj is tarah ki jo vivah hote hain use accha nahi samajhata hai hamara jo culture hai bharatiya jo culture hai riti rivaaj hai usme aisa mana jata hai ki prem vivah sahi nahi hai aur hamein apne caste mein hi apne dharm mein hi shadi karni chahiye aur vaah bhi apne parivar walon ko yani ki apne mata pita aur sage sambandhiyon ki pasand se toh isi wajah se mujhe lagta hai ki hamare mata pita jo apne baccho ki khushi ke liye apna sarvasya kurban karne ke liye tatpar rehte hain vaah jab shadi ki baat aati hai love marriage ki baat aati hai toh apne baccho ke khilaf ho jaate hain aur lekin mujhe aisa lagta hai ki jab bacche vyast ho jaate hain tum apna accha bura samjhne ke layak ho jaate hain isliye wish

मेरे मुताबिक माता पिता अपने बच्चों की प्रेम विवाह के खिलाफ हो जाते हैं क्योंकि हमारा समाज

Romanized Version
Likes  71  Dislikes    views  1327
WhatsApp_icon
user

Simranpreet Singh

B.Tech in CE from SRM

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

दिखी भारतीय माता-पिता प्रेम विवाह के खिलाफ इसलिए होते हैं कि क्योंकि वह समझते हैं कि उनके बच्चों को अभी इतनी समझ नहीं है कि अपना पार्टनर खुद चूस कर सके जिसके साथ हूं जिंदगी पूरी अपनी गुजारना चाहते हैं और दूसरों रीजन में यह भी कहूंगा कि जो भारत के कुछ लोगों की सोच अभी है वह थोड़ी सी नारी है थोड़ी सी पिक्चर पिछड़ी हुई सोच है तो उस हिसाब से भी उनको थोड़ी सी दिक्कत होती है कास्ट प्रॉब्लम जो सबसे बड़ा रीजन आता है वह भी थोड़ा सा दिक्कत करता है तो उस तरह इस तरह की सोच वाले जो माता-पिता होते हैं वह चाहते हैं कि उनके बच्चे उनकी ही कास्ट में उनके ही स्टेटस के अकॉर्डिंग या फिर किसी ऊंचे स्टेटस में या उनकी ही बराबर के स्टेटस के अकॉर्डिंग अपनी शादी करें वह इसीलिए ज्यादातर भारतीय माता-पिता प्रेम विवाह के खिलाफ होते हैं

dikhi bharatiya mata pita prem vivah ke khilaf isliye hote hain ki kyonki vaah samajhte hain ki unke baccho ko abhi itni samajh nahi hai ki apna partner khud chus kar sake jiske saath hoon zindagi puri apni gujarana chahte hain aur dusro reason mein yah bhi kahunga ki jo bharat ke kuch logo ki soch abhi hai vaah thodi si nari hai thodi si picture pichhadi hui soch hai toh us hisab se bhi unko thodi si dikkat hoti hai caste problem jo sabse bada reason aata hai vaah bhi thoda sa dikkat karta hai toh us tarah is tarah ki soch waale jo mata pita hote hain vaah chahte hain ki unke bacche unki hi caste mein unke hi status ke according ya phir kisi unche status mein ya unki hi barabar ke status ke according apni shadi kare vaah isliye jyadatar bharatiya mata pita prem vivah ke khilaf hote hain

दिखी भारतीय माता-पिता प्रेम विवाह के खिलाफ इसलिए होते हैं कि क्योंकि वह समझते हैं कि उनके

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  212
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:54
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

PK मेरे हिसाब से भारतीय माता-पिता में हर कोई माता पिता ऐसा नहीं होता जो प्रेम विवाह के खिलाफ होते हैं माता-पिता का जो सबसे वजह होती है सबसे बड़ी जिसकी वजह से वह प्रेम विवाह के खिलाफ होते हैं सबसे बड़ी है क्या यह होती है कि हमारे जो देश में इंटर कास्ट मैरिज और इंटर रिलिजन मैरिज मान्य नहीं मानी जाती है और उनको ही गलत दृष्टि से देखा जाता है इसका कारण यह है कि जो माता-पिता है वह पहले से ही बहुत साल पहले से एक कंज़र्वेटिव सोच से पले-बढ़े हैं उनका भी जो विवाह है वह भी कंज़र्वेटिव सोच के थ्रू हुआ है इसी वजह से ज्यादातर लोग इसको लेकर सोशल यह बहुत ही गलत चीज मानते हैं उनको लगता है कि अगर हम आप से प्रेम विवाह करेंगे वह इंटर कास्ट हो गए इंटर रिलीजियस होगा तो लोग हमें किस तरह से देखेंगे लोग हमारे बारे में क्या कहेंगे क्या सोचेंगे तो सबसे बड़ा कारण तो यही होता है कि माता-पिता को लगता है कि लोग उनका सम्मान करना बंद कर देंगे उनको और सोसाइटी में बहुत ही गलत दृष्टि से देखा जाएगा ताजा समाचार तो माता प्रगति विभाग के खिलाफ होते हैं उसके अलावा जो दूसरा रीजन है माता पिता के प्रेम विवाह के खिलाफ होने का उसका यह है कि उनके बच्चे होते हैं वह जब भी प्रेम विवाह करना चाहते हैं तो वह अपने माता पिता को नहीं बताते और काफी लोग भाग कर या फिर छुप कर शादी कर लेते हैं और उसमें माता-पिता यह नहीं कहते कि आप शादी मत करिए अगर आप किसी से प्यार करते हो तो आपने बताइए और फिर उसके बाद शादी करिए और मेरे हिसाब से हर माता-पिता अपने बच्चों से बहुत ज्यादा प्यार करते हैं और उनकी खुशी के लिए सब कुछ करने को तैयार हो जाते हैं तो अगर आप प्रेम विवाह करना भी चाहते हैं तो आप जाइए अपने माता-पिता से बात कीजिए उन को समझाइए कि आप क्यों शादी करना चाहते हैं वह इंसान कैसा है उसका परिवार कैसा है तो मेरे अनुसार तो जरूर हर माता-पिता मान जाएंगे तो यही कुछ कारण है जिस वजह से माता-पिता मना करते हैं वरना कोई भी माता-पिता अपने बच्चों की खुशी के आगे नहीं आना चाहते

PK mere hisab se bharatiya mata pita mein har koi mata pita aisa nahi hota jo prem vivah ke khilaf hote hai mata pita ka jo sabse wajah hoti hai sabse baadi jiski wajah se vaah prem vivah ke khilaf hote hai sabse baadi hai kya yah hoti hai ki hamare jo desh mein inter caste marriage aur inter religion marriage manya nahi maani jaati hai aur unko hi galat drishti se dekha jata hai iska karan yah hai ki jo mata pita hai vaah pehle se hi bahut saal pehle se ek kanzarvetiv soch se PALAY badhe hai unka bhi jo vivah hai vaah bhi kanzarvetiv soch ke through hua hai isi wajah se jyadatar log isko lekar social yah bahut hi galat cheez maante hai unko lagta hai ki agar hum aap se prem vivah karenge vaah inter caste ho gaye inter rilijiyas hoga toh log hamein kis tarah se dekhenge log hamare bare mein kya kahenge kya sochenge toh sabse bada karan toh yahi hota hai ki mata pita ko lagta hai ki log unka sammaan karna band kar denge unko aur society mein bahut hi galat drishti se dekha jaega taaza samachar toh mata pragati vibhag ke khilaf hote hai uske alava jo doosra reason hai mata pita ke prem vivah ke khilaf hone ka uska yah hai ki unke bacche hote hai vaah jab bhi prem vivah karna chahte hai toh vaah apne mata pita ko nahi batatey aur kaafi log bhag kar ya phir chup kar shadi kar lete hai aur usme mata pita yah nahi kehte ki aap shadi mat kariye agar aap kisi se pyar karte ho toh aapne bataye aur phir uske baad shadi kariye aur mere hisab se har mata pita apne baccho se bahut zyada pyar karte hai aur unki khushi ke liye sab kuch karne ko taiyar ho jaate hai toh agar aap prem vivah karna bhi chahte hai toh aap jaiye apne mata pita se baat kijiye un ko samjhaiye ki aap kyon shadi karna chahte hai vaah insaan kaisa hai uska parivar kaisa hai toh mere anusaar toh zaroor har mata pita maan jaenge toh yahi kuch karan hai jis wajah se mata pita mana karte hai varna koi bhi mata pita apne baccho ki khushi ke aage nahi aana chahte

PK मेरे हिसाब से भारतीय माता-पिता में हर कोई माता पिता ऐसा नहीं होता जो प्रेम विवाह के खिल

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  187
WhatsApp_icon
user
Play

Likes    Dislikes    views  169
WhatsApp_icon
user

Kailash Kumar

Active in Quora Hindi

1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं यह नहीं मानता हूं कि भारतीय माता पिता प्रेम विवाह के खिलाफ होते हैं दरअसल प्रेम विवाह होता क्या है मेरी समझ से तो प्रेम विवाह वह विवाह है जिसमें दहेज का आदान-प्रदान नहीं होता है आजकल लड़कियां भी उच्च शिक्षा प्राप्त करके नौकरी कर रही हैं और इस प्रकार वे अपने पैरों पर खड़ी हो रही है ऐसा स्वावलंबी हो जाने के पश्चात वह अपना निर्णय स्वयं लेने के लिए सक्षम होती हैं और अपने पैरों की या अपनी पसंद का लड़का स्वयं ढूंढ लेती है और माता पिता को सूचित कर देती हैं समाज ऐसे ही युवाओं को प्रेम विवाह की संज्ञा देता है जो कि सही नहीं है वैसे तो हर विवाह ही प्रेम विवाह होता है क्योंकि वह प्रेम कि उसकी बुनियाद होती है ऐसे मामलों में माता-पिता आजकल स्वयं अपनी लड़कियों को जो पाई जाती हैं और अपनी पसंद का लड़का ढूंढ लेती हैं उनको उनका भी बात कर देते हैं और उसमें कोई किसी भी प्रकार की आपत्ति अड़चन नहीं उत्पन्न करते हैं और धीरे-धीरे क्यों है बढ़ता चला जा रहा है और इस तरीके से देखा जाए तो आप धीरे-धीरे प्रेम विवाह की संख्या बढ़ती चली जाएगी और लगभग सभी विवाह प्रेम विवाह ही होंगे जो कि एक अच्छी बात

main yah nahi manata hoon ki bharatiya mata pita prem vivah ke khilaf hote hain darasal prem vivah hota kya hai meri samajh se toh prem vivah vaah vivah hai jisme dahej ka aadaan pradan nahi hota hai aajkal ladkiyan bhi ucch shiksha prapt karke naukri kar rahi hain aur is prakar ve apne pairon par khadi ho rahi hai aisa svaavlambi ho jaane ke pashchat vaah apna nirnay swayam lene ke liye saksham hoti hain aur apne pairon ki ya apni pasand ka ladka swayam dhundh leti hai aur mata pita ko suchit kar deti hain samaj aise hi yuvaon ko prem vivah ki sangya deta hai jo ki sahi nahi hai waise toh har vivah hi prem vivah hota hai kyonki vaah prem ki uski buniyad hoti hai aise mamlon mein mata pita aajkal swayam apni ladkiyon ko jo payi jaati hain aur apni pasand ka ladka dhundh leti hain unko unka bhi baat kar dete hain aur usme koi kisi bhi prakar ki apatti adachan nahi utpann karte hain aur dhire dhire kyon hai badhta chala ja raha hai aur is tarike se dekha jaaye toh aap dhire dhire prem vivah ki sankhya badhti chali jayegi aur lagbhag sabhi vivah prem vivah hi honge jo ki ek achi baat

मैं यह नहीं मानता हूं कि भारतीय माता पिता प्रेम विवाह के खिलाफ होते हैं दरअसल प्रेम विवाह

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  107
WhatsApp_icon
user

dishu kumar

मैं एक छात्र कवि और भारतीय हूं

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

साहब जब एक अध्यापक ने किसी छात्र को बहुत मेहनत से पढ़ाता है पूरी लगन से उसके साल भर मेहनत करता है तत्पश्चात वही छात्र अध्यापक के सामने किसी दूसरे टीचर की प्रशंसा करता है अथवा उसके द्वारा दिए गए नोट से तैयारी करता है तो मेहनत करने वाले अध्यापक को कहीं ना कहीं इस बात का दुख होता है कि मेरी इतनी मेहनत के बाद भी यह दूसरे अध्यापक के द्वारा दिए गए नोट से तैयारी क्यों कर रहा है मेरे सामने उसकी प्रशंसा क्यों कर रहा है यह भाव हमने तुम्हें देखना होता है प्रत्येक भारतीय नागरिक में होता है अब माता-पिता की बात रही तो जिन्होंने हमें देखा भी नहीं तब से हम से प्यार करना स्टार्ट किया कहते नहीं अम्मा ने सिर्फ 9 माह बच्चे को अपने गर्भ में पाला किंतु पिता ने सारी उम्र उस बच्चे का निर्माण अपने दिमाग में किया प्रत्येक पिता प्रत्येक माता कभी यह नहीं चाहते कि उसका पुत्र उस की पुत्री दुखी रहे हो इस बात से नहीं डरते कि उस लड़की ने लड़के ने कहीं और अपनी इच्छा से शादी कर ली है बल्कि डरते इस बात से हैं कि जिस बच्चे को हमने सारी उम्र इतने प्यार से इतने लार से अपनी बेटी को अपनी बेटी को काला कहीं ऐसा ना हो यह अपनी इच्छा अनुसार शादी करके दुखी हो जाए ऐसा ना हो यह लड़की धोखा दे दिया यह लड़का इस मेरी बेटी को खाते थे इसलिए भारतीय माता-पिता डरते हैं

saheb jab ek adhyapak ne kisi chatra ko bahut mehnat se padhata hai puri lagan se uske saal bhar mehnat karta hai tatpashchat wahi chatra adhyapak ke saamne kisi dusre teacher ki prashansa karta hai athva uske dwara diye gaye note se taiyari karta hai toh mehnat karne waale adhyapak ko kahin na kahin is baat ka dukh hota hai ki meri itni mehnat ke baad bhi yah dusre adhyapak ke dwara diye gaye note se taiyari kyon kar raha hai mere saamne uski prashansa kyon kar raha hai yah bhav humne tumhe dekhna hota hai pratyek bharatiya nagarik mein hota hai ab mata pita ki baat rahi toh jinhone hamein dekha bhi nahi tab se hum se pyar karna start kiya kehte nahi amma ne sirf 9 mah bacche ko apne garbh mein pala kintu pita ne saree umr us bacche ka nirmaan apne dimag mein kiya pratyek pita pratyek mata kabhi yah nahi chahte ki uska putra us ki putri dukhi rahe ho is baat se nahi darte ki us ladki ne ladke ne kahin aur apni iccha se shadi kar li hai balki darte is baat se hain ki jis bacche ko humne saree umr itne pyar se itne laar se apni beti ko apni beti ko kaala kahin aisa na ho yah apni iccha anusaar shadi karke dukhi ho jaaye aisa na ho yah ladki dhokha de diya yah ladka is meri beti ko khate the isliye bharatiya mata pita darte hain

साहब जब एक अध्यापक ने किसी छात्र को बहुत मेहनत से पढ़ाता है पूरी लगन से उसके साल भर मेहनत

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  29
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारतीय माता पिता प्रेम विवाह के खिलाफ इसलिए होते हैं क्योंकि अगर आप देखें भारत में शादी के बाद भी लोग अपने माता-पिता के साथ रहते हैं वैसे दूसरे देशों में नहीं 16 साल की उम्र में बोलो घर से निकल जाते हैं अपने दम पर सब कुछ करते हैं तो भारतीय माता-पिता अपने बच्चों के बारे में बहुत प्रोटेक्टर होते हैं तो उनको लगता है कि अगर हमने किसी लड़का या लड़की को चुना है तो वह गलत होगा हमारे लिए क्योंकि हमने वह समझ नहीं हम में वह एक्सपीरियंस नहीं हमने दुनिया को देखा नहीं बल्कि उन्होंने सब कुछ देखा है दिया है कहां है इसलिए वह पहले आप पोस्ट करते हैं लेकिन अगर जब लड़की को मिलते हैं या लड़की को मिलते हैं और उनको लगता है कि नहीं यह अच्छा है अच्छी है तो मुझे नहीं लगता मना करते हैं लेकिन वह डर हमेशा उनके हृदय में रहता है

bharatiya mata pita prem vivah ke khilaf isliye hote hain kyonki agar aap dekhen bharat mein shadi ke baad bhi log apne mata pita ke saath rehte hain waise dusre deshon mein nahi 16 saal ki umr mein bolo ghar se nikal jaate hain apne dum par sab kuch karte hain toh bharatiya mata pita apne baccho ke bare mein bahut protector hote hain toh unko lagta hai ki agar humne kisi ladka ya ladki ko chuna hai toh vaah galat hoga hamare liye kyonki humne vaah samajh nahi hum mein vaah experience nahi humne duniya ko dekha nahi balki unhone sab kuch dekha hai diya hai kahaan hai isliye vaah pehle aap post karte hain lekin agar jab ladki ko milte hain ya ladki ko milte hain aur unko lagta hai ki nahi yah accha hai achi hai toh mujhe nahi lagta mana karte hain lekin vaah dar hamesha unke hriday mein rehta hai

भारतीय माता पिता प्रेम विवाह के खिलाफ इसलिए होते हैं क्योंकि अगर आप देखें भारत में शादी के

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  216
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!