उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ से सत्ता में आने के बाद 33 अपराधियों की हत्या कर दी गई है। क्या यह एक अच्छी या बुरी बात है? क्यों?...


user
Play

Likes    Dislikes    views  29
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ishita Seth

Obstinate Programmer

1:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ से सत्ता में आने के बाद 33 अपराधियों की हत्या कर दी गई है यह बात हम सभी जानते हैं पर लेकिन इस पर मैं अपना ओपिनियन समय रखना चाहूंगी मैं यह सिर्फ नहीं कहूंगी कि अगर थोड़ी-थोड़ी थी हत्या हुई है अगर यह मतलब अल्लाह के अंदर हुई है और अगर इन हत्याओं का मेला अगर उन्हीं लोगों के लिए सच में सच में अपराधी थे और बोलो के अंदर हर एक रोल से हरे का मतलब जो कोर्ट के अंदर हर एक तरह से हर एक सिंगल वैसे अगर अपराधी हत्या कर दी गई है और उन्हें अपनी गलतियों का उन्होंने जो क्राइम किया है उनके उनके क्राइम का बिल्कुल सही अगर वह ईमेल रिजल्ट मिला है उनकी हत्या उनका मारना उनका मरना बिल्कुल सही बात है क्योंकि क्या पता शायद उनकी गलतियां ही होंगे इतने बड़े होकर उसे फांसी ही ना हो तो अगर पर अगर ऐसा है कि उनके फैंस को छोटे थे जिसको हम मला माफ कर तुझे कुछ पनिशमेंट नेगी क्या पता कुछ फाइन देख लिया कुछ सालों खेलने के लिए एक सबक दिया है आदित्यनाथ जी ने कि अगर गलत राह पर पड़े तो आपके साथ परिणाम बहुत बुरा हो सकता है

uttar pradesh mein yogi adityanath se satta mein aane ke baad 33 apradhiyon ki hatya kar di gayi hai yah baat hum sabhi jante hain par lekin is par main apna opinion samay rakhna chahungi main yah sirf nahi kahungi ki agar thodi thodi thi hatya hui hai agar yah matlab allah ke andar hui hai aur agar in hatyaaon ka mela agar unhi logo ke liye sach mein sach mein apradhi the aur bolo ke andar har ek roll se hare ka matlab jo court ke andar har ek tarah se har ek singles waise agar apradhi hatya kar di gayi hai aur unhe apni galatiyon ka unhone jo crime kiya hai unke unke crime ka bilkul sahi agar vaah email result mila hai unki hatya unka marna unka marna bilkul sahi baat hai kyonki kya pata shayad unki galtiya hi honge itne bade hokar use fansi hi na ho toh agar par agar aisa hai ki unke fans ko chote the jisko hum mala maaf kar tujhe kuch punishment negi kya pata kuch fine dekh liya kuch salon khelne ke liye ek sabak diya hai adityanath ji ne ki agar galat raah par pade toh aapke saath parinam bahut bura ho sakta hai

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ से सत्ता में आने के बाद 33 अपराधियों की हत्या कर दी गई है

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  205
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ऋषि इंडियन एक्सप्रेस वे के साथ नोट करें और उन्होंने यह बताया कि योगी सरकार के आने के बाद 10 महीने में 19 इनकाउंटर सुएज में से 33 मौत हो गई थी इतने जो क्रिमिनल्स से मोस्ट वांटेड क्रिमिनल्स उनकी जो है वह हत्या कर दी गई और और ट्यूसडे को उन्होंने एक और जो क्रिमिनल है उसे पकड़ मोस्ट वांटेड क्रिमिनल कि सिर्फ एनकाउंटर हो और फिर उसकी भी हत्या हो गई 22 नवंबर को नेशनल ह्यूमन राइट कमीशन ने एक नोटिस भेजा था स्टेट कॉमेंट को यूपीटेट कॉमेंट को जो 19 एनकाउंटर हुए थे 6 महीने में उसके बारे में कि मैं यह कहना चाहूंगी इस बारे में कि अगर चाहिए एनकाउंटर सोए हुए हैं अगर उस टाइम पर वह अपराधी भागने की कोशिश कर रहा हूं या फिर उसने कोई चलाकर की हो की गोली चलानी जरूरी हो तू तो एक बार के लिए को मान भी लें लेकिन यह एक रूल होता है आखिरी की गोली सीधा नहीं मानी जाती उस को जख्मी किया जाता था कि उसे पकड़ा जा सके मारना मोटर नहीं होता पुलिस कर लो उसके अकॉर्डिंग लेकिन जो यह तेरी तो वह को मार दिया करो थोड़ा चेंज तू है क्योंकि अगर पुलिस कांस्टेबल पुलिस के पास में गाने है तो उसे पैर पर मार दे उसको हाथ से मार देते निकली उसको जान से मारने की क्या जरूरत पड़ गई तो यह थोड़ा सा स्पीच है जरूर चाहिए बट लेकिन अगर यह लफ्ज़ अगर यह सच में वह जो अपराधी वह भागने की कोशिश कर रहा हो तो गोली मारी हो तो तो कुछ गलत नहीं है बट अगर यह यूपी सरकार का कोई प्लान है कि सारे क्रम राजस्व से मार-मार कर खत्म करेंगे तो फिर जरूर खतरा है

rishi indian express ve ke saath note kare aur unhone yah bataya ki yogi sarkar ke aane ke baad 10 mahine mein 19 inakauntar suej mein se 33 maut ho gayi thi itne jo criminals se most wanted criminals unki jo hai vaah hatya kar di gayi aur aur tyusade ko unhone ek aur jo criminal hai use pakad most wanted criminal ki sirf encounter ho aur phir uski bhi hatya ho gayi 22 november ko national human right commision ne ek notice bheja tha state comment ko UPTET comment ko jo 19 encounter hue the 6 mahine mein uske bare mein ki main yah kehna chahungi is bare mein ki agar chahiye encounter soye hue hain agar us time par vaah apradhi bhagne ki koshish kar raha hoon ya phir usne koi chalakar ki ho ki goli chalani zaroori ho tu toh ek baar ke liye ko maan bhi le lekin yah ek rule hota hai aakhiri ki goli seedha nahi maani jaati us ko jakhmi kiya jata tha ki use pakada ja sake marna motor nahi hota police kar lo uske according lekin jo yah teri toh vaah ko maar diya karo thoda change tu hai kyonki agar police constable police ke paas mein gaane hai toh use pair par maar de usko hath se maar dete nikli usko jaan se maarne ki kya zarurat pad gayi toh yah thoda sa speech hai zaroor chahiye but lekin agar yah lafz agar yah sach mein vaah jo apradhi vaah bhagne ki koshish kar raha ho toh goli mari ho toh toh kuch galat nahi hai but agar yah up sarkar ka koi plan hai ki saare kram rajaswa se maar maar kar khatam karenge toh phir zaroor khatra hai

ऋषि इंडियन एक्सप्रेस वे के साथ नोट करें और उन्होंने यह बताया कि योगी सरकार के आने के बाद 1

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  144
WhatsApp_icon
user

.

Hhhgnbhh

0:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के सत्ता में आने में अगर तैतीस अपराधियों की हत्या कर दी गई है तो यह मेरे को एक लगता है कि अच्छी चीज है पर यह जो हत्याएं थी यह कानून के रूप से होनी चाहिए थी l जो कानून का फैसला है वही आखिरी फैसला होता है तो अगर यह हत्याएं कानून के द्वारा हुई है तो यह बहुत ही अच्छी चीज है l पर अगर यह हत्या कानून के द्वारा नहीं हुई और किसी और तरीके से हुई है तो मुझे नहीं लगता कि यह अच्छा फैसला है यह अच्छी चीज हुई है l क्योंकि हमें अब भारत के कानून पर अपने लॉ पर पूरा विश्वास होना चाहिए कि आज नहीं तो कल वह सही परिणाम देगा और अपने आप फैसला ले कर अपने आप को अंजाम पर आना है, किसी कहते हत्याएं वह एक बहुत गलत चीज हो जाती है l तो यह बात डिपेंड करता है कि तुझे हत्याएं हुई है यह कानून के अंतर्गत हुई है या फिर यह अपने आप किसी और ने करवाई हैं l

uttar pradesh mein yogi adityanath ke satta mein aane mein agar taitis apradhiyon ki hatya kar di gayi hai toh yah mere ko ek lagta hai ki achi cheez hai par yah jo hatyaayen thi yah kanoon ke roop se honi chahiye thi l jo kanoon ka faisla hai wahi aakhiri faisla hota hai toh agar yah hatyaayen kanoon ke dwara hui hai toh yah bahut hi achi cheez hai l par agar yah hatya kanoon ke dwara nahi hui aur kisi aur tarike se hui hai toh mujhe nahi lagta ki yah accha faisla hai yah achi cheez hui hai l kyonki hamein ab bharat ke kanoon par apne law par pura vishwas hona chahiye ki aaj nahi toh kal vaah sahi parinam dega aur apne aap faisla le kar apne aap ko anjaam par aana hai kisi kehte hatyaayen vaah ek bahut galat cheez ho jaati hai l toh yah baat depend karta hai ki tujhe hatyaayen hui hai yah kanoon ke antargat hui hai ya phir yah apne aap kisi aur ne karwai hain l

उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के सत्ता में आने में अगर तैतीस अपराधियों की हत्या कर दी गई

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  280
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए इसमें मैं दो चीजों पर ध्यान दे रहा होगा क्योंकि 33 हत्याएं हुई है अपराधियों की वह कानून द्वारा दी गई सजा उनको दी गई है उसमें हुई है या फिर किसी एनकाउंटर में हुई है या फिर हो सकता है किसी तीसरी पार्टी यानी कि से बाहर के इंसान ने उनको मारा हो तो हमें इस चीज को पहले इस चीज को ध्यान देना होगा अगर उनकी हत्या है किसी सजा के द्वारा हुई है यानि किसी जुडिशल सिस्टम में उसको सजा दी जाती है कि और उम्र कैद की तो वह ठीक है क्योंकि हमें अपने जुडिशल सिस्टम पर भरोसा होना चाहिए क्या वह सजा दे रहे हैं तो वह सही दी होगी उसके अलावा करो एनकाउंटर हुआ है तू भी हो सकता है वह काफी हद तक ठीक होगी पुलिस डिपार्टमेंट में एनकाउंटर करने की बहुत बड़ी मदद होनी चाहिए अदर वाइज अगर आप एनकाउंटर करते हैं तो आपसे वजह मांगी जाती है क्या आपने क्यों किया कैसे किया और अगर आपके पास वजह नहीं होती है उस चीज की तो आपके ऊपर सख्त कार्रवाई हो सकती है तो अगर पुलिस एनकाउंटर हुआ है तो भी वह काफी हद तक ठीक है परंतु किसी अगर तीसरे आदमी ने अपराधी समझ कर आप को मारा है या किसी इंसान को मारा है तो बहुत ही गलत बात है क्योंकि हमारे देश में कोई आदमी कैसे भी आम आदमी को दूसरे इंसान को नहीं मार सकता है यह बहुत ही गलत चीज मानी जाती है और उसके खिलाफ कार्यवाही भी की जा सकती है तो अगर योगी आदित्यनाथ जी के सत्ता में आने के बाद 33 अपराधियों की हत्या कर दी गई है जिसमें आपने लिखा है कि अपराधियों की तो इसका मतलब उनको हर तरह से पुलिस की निगरानी में या फिर एजुकेशन सिस्टम नहीं है उनको सजा दी होगी तभी वह अपराधी होंगे और तुम क्या कर हत्या की गई है तो अच्छी बात है हमारे देश में अपराधियों को यही सजा देनी है देनी चाहिए ताकि आगे लोग अपराध करने से बचे और ऐसे काम ना करें जिससे हमारी सोसाइटी में गलत इंपैक्ट पड़ता है

dekhiye isme main do chijon par dhyan de raha hoga kyonki 33 hatyaayen hui hai apradhiyon ki vaah kanoon dwara di gayi saza unko di gayi hai usme hui hai ya phir kisi encounter mein hui hai ya phir ho sakta hai kisi teesri party yani ki se bahar ke insaan ne unko mara ho toh hamein is cheez ko pehle is cheez ko dhyan dena hoga agar unki hatya hai kisi saza ke dwara hui hai yani kisi judicial system mein usko saza di jaati hai ki aur umr kaid ki toh vaah theek hai kyonki hamein apne judicial system par bharosa hona chahiye kya vaah saza de rahe hain toh vaah sahi di hogi uske alava karo encounter hua hai tu bhi ho sakta hai vaah kaafi had tak theek hogi police department mein encounter karne ki bahut badi madad honi chahiye other wise agar aap encounter karte hain toh aapse wajah maangi jaati hai kya aapne kyon kiya kaise kiya aur agar aapke paas wajah nahi hoti hai us cheez ki toh aapke upar sakht karyawahi ho sakti hai toh agar police encounter hua hai toh bhi vaah kaafi had tak theek hai parantu kisi agar teesre aadmi ne apradhi samajh kar aap ko mara hai ya kisi insaan ko mara hai toh bahut hi galat baat hai kyonki hamare desh mein koi aadmi kaise bhi aam aadmi ko dusre insaan ko nahi maar sakta hai yah bahut hi galat cheez maani jaati hai aur uske khilaf karyavahi bhi ki ja sakti hai toh agar yogi adityanath ji ke satta mein aane ke baad 33 apradhiyon ki hatya kar di gayi hai jisme aapne likha hai ki apradhiyon ki toh iska matlab unko har tarah se police ki nigrani mein ya phir education system nahi hai unko saza di hogi tabhi vaah apradhi honge aur tum kya kar hatya ki gayi hai toh achi baat hai hamare desh mein apradhiyon ko yahi saza deni hai deni chahiye taki aage log apradh karne se bache aur aise kaam na kare jisse hamari society mein galat impact padta hai

देखिए इसमें मैं दो चीजों पर ध्यान दे रहा होगा क्योंकि 33 हत्याएं हुई है अपराधियों की वह का

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  183
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!