भारत का विभाजन कर पाकिस्तान के निर्माण की वजह क्या थी?...


play
user

Girish Soni

Indian Politician

1:46

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आतंकवाद के आतंकवाद की जड़ें मैं समझता हूं कि आतंकवाद जो बढ़ रहा है इसका मुख्य कारण कई हैं1 नहीं है इस देश की बेरोजगारी भी आतंकवाद का कारण हो सकती है और इस देश की शिक्षा भी आतंकवाद का कारण हो सकती है क्योंकि जिस तरह से हमारी शिक्षा और बेरोजगारी रही है और जब इतनी बड़ी एक पड़ोसी देश से मिलने की कोशिश करें हम सवा करोड़ की जनसंख्या हमसे ज्यादा जनसंख्या वाला चाइना रोजगार उत्पन्न कर सकता है कि आता है तो आतंकवादी कहते हैं जो आप जो आतंकवादी बनता है जो केवल बनता है उसकी फसल कहीं ना कहीं इस चीजों से वह बेरोजगार है उसके पास रोजगार नहीं है पढ़ाई उसकी ठीक नहीं है पढ़ नहीं सकता तो क्या करेगा जिस तरह से हम शिक्षित बनेगा और जिस तरह से घुस समझेगा देश को तो मैं समझता हूं आतंकवादी नहीं बनेगा आज मैं भी देख रहा हूं जिस तरह से अगर हम किसी के लिए आगे पीछे काफी लोग शराब बेचते थे अगर हम उनके लिए कोई योजना बनाते हैं उन बच्चों को पढ़ाने की कोशिश करते हैं जियो के माध्यम से उनके घर जाते हम पता करते हैं कि आप ऐसा धंधा करते हैं या शराब बेचते हैं कच्ची शराब ही भेजते थे पहले अब उनके बच्चे आज पड़ जाते हैं तो पढ़ने के बाद उनको यह काम करने वह काम करने में शर्म आती है और वह नहीं करते इसका हमको तो कम से कम इतना शिक्षित समझदार हो जाते हैं कि हम अपना और कोई रोजगार कर सकते हैं जिसे हम इज्जत मान मिले पैसा ही सब कुछ नहीं होता है

aatankwad ke aatankwad ki jaden main samajhata hoon ki aatankwad jo badh raha hai iska mukhya karan kai hain nahi hai is desh ki berojgari bhi aatankwad ka karan ho sakti hai aur is desh ki shiksha bhi aatankwad ka karan ho sakti hai kyonki jis tarah se hamari shiksha aur berojgari rahi hai aur jab itni badi ek padosi desh se milne ki koshish kare hum sava crore ki jansankhya humse zyada jansankhya vala china rojgar utpann kar sakta hai ki aata hai toh aatankwadi kehte hain jo aap jo aatankwadi baata hai jo keval baata hai uski fasal kahin na kahin is chijon se vaah berozgaar hai uske paas rojgar nahi hai padhai uski theek nahi hai padh nahi sakta toh kya karega jis tarah se hum shikshit banega aur jis tarah se ghus samjhega desh ko toh main samajhata hoon aatankwadi nahi banega aaj main bhi dekh raha hoon jis tarah se agar hum kisi ke liye aage peeche kaafi log sharab bechte the agar hum unke liye koi yojana banate hain un baccho ko padhane ki koshish karte hain jio ke madhyam se unke ghar jaate hum pata karte hain ki aap aisa dhandha karte hain ya sharab bechte hain kachhi sharab hi bhejate the pehle ab unke bacche aaj pad jaate hain toh padhne ke baad unko yah kaam karne vaah kaam karne mein sharm aati hai aur vaah nahi karte iska hamko toh kam se kam itna shikshit samajhdar ho jaate hain ki hum apna aur koi rojgar kar sakte hain jise hum izzat maan mile paisa hi sab kuch nahi hota hai

आतंकवाद के आतंकवाद की जड़ें मैं समझता हूं कि आतंकवाद जो बढ़ रहा है इसका मुख्य कारण कई हैं1

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  493
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!